5 साल में पहली बार हाजी अली दरगाह में महिलाओं को मिली एंट्री

Updated on: 16 November, 2019 08:19 AM
मुंबई.5 साल के इंतजार के बाद हाजी अली दरगाह की मुख्य मजार में महिलाओं को एंट्री मिली। मंगलवार को 80 महिलाओं ने चादर भी चढ़ाई। एंट्री बैन पर महिला संगठनों ने कोर्ट से गुहार लगाई थी। जिसके बाद अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट ने पुरुषों की तरह महिलाओं को जाने की इजाजत देने का फैसला सुनाया था। महिलाओं ने क्या कहा... - हाजी अली ट्रस्ट के महिलाओं को एंट्री देने के फैसले का महिलाओं ने स्वागत किया। - दरगाह में जियारात करने पहुंची भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन से जुड़ी महिलाओं ने कहा, ''हमने बड़ी जीत हासिल की है। यहां आने से पहले न पुलिस को सूचना दी थी और न ही किसी और को बताया। महिलाओं को मजार में जाने दिया और आगे भी हम यहां आएंगे।'' - ''हमारी असली लड़ाई लैंगिक भेदभाव के खिलाफ और कानूनी हक के लिए थी। उम्मीद है कि बाकी मामलों में भी महिलाओं को ऐसी बराबरी हासिल होगी।'' तृप्ति देसाई भी जाएंगी हाजी अली - भूमाता ब्रिगेड की तृप्ति देसाई ने भी हाजी अली में महिलाओं को एंट्री दिलाने के लिए आंदोलन किया था। - देसाई ने dainikbhaskar.com से कहा, ''मुझे खुशी है कि महिलाओं को समानता का अधिकार मिला है। ये बड़ी जीत है, हम आंदोलन जारी रखेंगे।'' - ''3 दिसंबर को पुणे की 100 से ज्यादा महिलाएं मार्च करते हुए मुंबई जाएंगी और हाजी अली में चादर चढ़ाएंगी।'' - बता दें कि महाराष्ट्र के शनि शिंगणापुर मंदिर में तृप्ति देसाई के आंदोलन के बाद महिलाओं को शनि मंदिर में प्रवेश मिला था। बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी दी थी परमिशन - बाॅम्बे हाईकोर्ट ने 26 अगस्त को दरगाह में महिलाओं को मजार तक जाने की परमिशन दी थी। इसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा था। - हाजी अली के लिए मुस्लिम महिला आंदोलन संस्था ने बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर ट्रस्ट के फैसले को चुनौती दी थी। हाजी अली में है पीर बुखारी की कब्र - दरगाह में पीर हाजी अली शाह बुख़ारी की कब्र है। वे सूफी संत थे, जो इस्लाम के प्रचार के लिए ईरान से भारत आए थे। - कहा जाता है कि जिन सूफ़ी-संतों ने अपना जीवन धर्म के प्रचार में समर्पित कर दिया और जान क़ुर्बान कर दी, वे अमर हैं। - इसलिए पीर बुख़ारी को भी अमर माना जाता है। उनकी मौत के बाद दरगाह पर कई चमत्कारिक घटनाएं देखी जाती हैं। - दरगाह मुंबई के साउथ एरिया वरली के समुद्र तट से करीब 500 मीटर अंदर पानी में एक छोटे-से टापू पर स्थित हैं। यहां आते हैं क्रिकेटर्स से लेकर फिल्म स्टार्स - हाजी अली दरगाह में कूली, फिजा समेत कई बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है। - यहां पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शोएब अख्तर, बॉलीवुड स्टार संजय दत्त, इमरान हाशमी, तुषार कपूर समेत कई एक्टर्स अक्सर आते हैं।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया