अच्छा प्रदर्शन न होने पर मोदी सरकार ने 2 IPS बर्खास्त किए, 2 IAS भी लाइन में

Updated on: 22 November, 2019 09:28 AM
नई दिल्ली मोदी सरकार ने एक बड़े फैसले में मंगलवार को भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के दो अधिकारियों को खराब प्रदर्शन और अनुशासनहीनता के आरोप में बर्खास्त कर दिया। बताया जा रहा है कि 10-15 साल बाद केंद्र की सरकार ने ऐसी कार्रवाई की है। इससे पहले जब केंद्र की सरकार ने इस तरह की कार्रवाई की थी, तब महाराष्ट्र काडर के अफसर पर गाज गिरी थी। केंद्र सरकार द्वारा बर्खास्त अफसरों के नाम राजकुमार देवांगन और मयंक शील चौहान हैं। राजकुमार 1992 बैच के छत्तीसगढ़ काडर के आईपीएस हैं और मयंक 1998 के यूनियन टेरिटॉरीज काडर के आईपीएस हैं। दोनों अधिकारियों को तीन महीने का वेतन देकर जबरन सेवा से हटा दिया गया है। बता दें कि मयंक उस दौरान चर्चा में आए थे जब असम में तैनाती के समय वह अचानक गायब हो गए थे। इस मामले में काफी विवाद हुआ था। पहले उनकी अपहरण की खबर आई लेकिन बाद में जानकारी मिली थी कि वह खुद गायब हुए थे और दिल्ली में छिपे थे। इसके अलावा भी कई दूसरे विवादों में उनका नाम आया था। उनकी पत्नी भी गलत प्रमाण पत्र के साथ एक एयरलाइंस में नौकरी करने के आरोप में फंसी थी। सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री कार्यालय ने दो अन्य अफसरों की बर्खास्तगी का भी आदेश दिया है। हालांकि इन दो अधिकारियों की बर्खास्तगी के संबंध में कोई अधिसूचना जारी नहीं की गई है। पीएम का आदेश जो काम के लायक नहीं, उन्हें बाहर निकालें सूत्रों ने बताया कि यह बड़ी कार्रवाई पीएम मोदी के सख्त निर्देश के बाद की गई है जिसमें उन्होंने सभी मंत्रालयों से कहा है कि जो अधिकारी सरकारी सेवा के नियमों का लाभ उठाकर काम से भाग रहे हें या सिस्टम पर बोझ बने हुए हैं उन्हें तत्काल बाहर करें। अगले कुछ दिनों में इस तरह की कई कार्रवाई होने की संभावना है।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया