नजरबंदी के बाद अब आतंकी हाफिज के पाकिस्तान छोड़ने पर भी लगा प्रतिबंध

Updated on: 22 August, 2019 11:02 AM
इस्लामाबाद पाकिस्तान ने जमात-उद-दावा (JuD) और लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी सरगना हाफिज सईद को लाहौर में नजरबंद करने के बाद अब उसके खिलाफ एक और बड़ी कार्रवाई की है। पाकिस्तान सरकार ने हाफिज का नाम 'एग्ज़िट कंट्रोल लिस्ट' में भी शामिल कर दिया है। इसके बाद अब हाफिज पाकिस्तान से बाहर नहीं जा पाएगा। मालूम हो कि इसी सोमवार को मुंबई आतंकी हमले के इस मास्टरमाइंड को उसके सहयोगियों के साथ घर में नजरबंद कर दिया गया था। हाफिज के साथ-साथ उसके 37 आतंकवादी सहयोगियों के भी देश छोड़कर जाने पर पाबंदी लगा दी गई है। पाकिस्तान के आंतरिक मंत्रालय ने सभी प्रांतीय सरकारों और जांच एजेंसी को एक पत्र भेजा है। इसमें 38 लोगों के नाम हैं। इसी सूची में हाफिज का नाम भी जोड़ा गया है। ये सभी लोग JuD और लश्कर से जुड़े हुए बताए गए हैं। इनमें से किसी को भी पाकिस्तान से बाहर जाने की इजाजत नहीं मिलेगी। मालूम हो कि पाकिस्तान में ECL में डाले गए लोगों के देश से बाहर जाने पर पाबंदी होती है। कुछ दिनों पहले पाकिस्तानी अखबार 'द डॉन' में पत्रकार सिरिल अलमिदा का नाम भी इस सूची में डाल दिया गया था। पूर्व राष्ट्रपति और सैनिक शासक परवेज मुशर्रफ भी इस लिस्ट में थे, लेकिन फिर इलाज करवाने के लिए कोर्ट ने उन्हें विदेश जाने की इजाजत दे दी थी। आंतरिक मंत्रालय ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) के 1267 प्रतिबंधों के आधार पर हाफिज का नाम ECL में डाला है। इसके अलावा हाफिज के तीनों संगठनों JuD, लश्कर और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (FIF) को भी इस सूची में शामिल किया गया है। साथ ही, इन तीनों आतंकी संगठनों को ATA 1997 की दूसरी सूची में भी डाला गया है। मंत्रालय द्वारा जारी एक नोटिफिकेशन के मुताबिक, 'हाफिज मुहम्मद सईद, अब्दुल्ला उबैद, जफर इकबाल, अब्दुर रहमान आबिद और काजी काशिफ नियाज कथित तौर पर इन तीनों संगठनों के सक्रिय सदस्य हैं। इसीलिए उन्हें नजरबंद रखा जाना चाहिए।' हाफिज को 90 दिनों तक घर में नजरबंद रखने का आदेश दिया गया है। खबरों के मुताबिक, पाकिस्तान पर अमेरिका के नए ट्रंप प्रशासन द्वारा हाफिज और उसके आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए काफी दबाव बनाया जा रहा है। इससे पहले 2008 में हुए मुंबई आतंकी हमले के बाद भी हाफिज को नजरबंद कर दिया गया था। इसके बाद फिर साल 2009 में उसे आजाद कर दिया गया।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया