अखिलेश ने दी मोदी को विकास पर बहस की चुनौती

Updated on: 26 June, 2019 06:23 AM

नई दिल्ली
उत्तर प्रदेश के CM अखिलेश यादव ने PM नरेंद्र मोदी के कई आरोपों का अपने तरीके से जवाब देते हुए उन्हें विकास पर बहस करने की चुनौती दे डाली। रविवार को राजधानी लखनऊ में SP कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए अखिलेश ने कहा, 'प्रधानमंत्री चाहें तो काम पर, उपलब्धियों पर बहस कर सकते हैं। बहस के लिए वह गांव चुनें, जो खचांजी (नोटबंदी के दौरान ATM की लाइन में पैदा हुआ बच्चा) का गांव है या गंगा मइया के घाट पर, जहां वह तैयार हों, हम बहस कर सकते हैं।'

PM मोदी के बयानों पर चुटकी लेते हुए अखिलश ने आगे कहा कि उनको अपना ब्लड प्रेशर ही नपवाना है तो किसी भी डॉक्टर से नपवा लेंगे, इसके लिए मेदांता हॉस्पिटल क्यों जाना। वह कहते हैं कि गोरखपुर में बिजली नहीं आती, मैं कहता हूं वहां का कोई बिजली का तार पकड़ के दिखा दें बिजली आती है या नहीं। प्रधानमंत्री ने बिजली पर बयान दिया लेकिन खुद उनके संसदीय क्षेत्र वाराणसी को 24 घंटे बिजली किसी ने दी तो वह समाजवादी सरकार ने दी।

अखिलेश बोले, आप किसानों की कर्ज माफी की बात करते हैं। किसानों का लोन माफ करने के लिए जरूरी नहीं राज्य में आपकी सरकार हो। केवल UP नहीं, पूरे देश के किसान कर्ज माफी की आस लगाए बैठे हैं। महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ समेत कई राज्यों के किसान इंतजार कर रहे होंगे। क्या UP में चुनाव है सिर्फ इसलिए आप यहां कर्ज माफी की बात कह रहे हैं। केंद्र में BJP की सरकार बने लगभग 3 साल हो गए हैं, PM बताएं कि किसानों की आमदनी कितनी बढ़ी।

अखिलेश अपनी उपलब्धियां गिनाते हुए बोले कि हमने किसानों का 1600 करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया। उनकी गिरवी रखी संपत्ति बैंक नीलाम नहीं कर सकते। हमने किसानों को दुर्घटना बीमा दिया। राज्य में मदर डेयरी और अमूल के प्लांट लगवाए। केंद्र ने किसानों की मदद के लिए क्या कदम उठाया? हमने हमेशा अडवांस में खाद खरीदी है इसलिए हमारे किसान को कभी लाइन में नहीं लगना पड़ा। PM कहते हैं कि हमें हिसाब 2019 में देना है, हम कहते हैं कि जितना वक्त बीता है उतने का ही हिसाब दे दें। लोहिया ने कहा था कि जिंदा कौमें 5 साल इंतजार नहीं करतीं।

मुख्यमंत्री ने पूर्वांचल की बात करते हुए कहा कि PM बताएं कि राज्य के इस हिस्से में केंद्र ने किस जिले में क्या काम किया है। हम एक्सप्रेसवे आगरा से लखनऊ लाए और वही अब आजमगढ़ और गाजीपुर पहुंचेगा। हमने कई मार्गों को फोरलेन किया, बुनकर बाजार बनाया। लखनऊ में कैंसर इंस्टिट्यूट बन रहा है। केंद्र को एम्स के लिए जगह नहीं मिल रही थी, कानूनी दांव-पेच की मुश्किलों को पार करते हुए हमने इसके लिए गोरखपुर में सबसे महंगी जमीन दी। अब PM बताएं कि एम्स का काम कब पूरा होगा।

भेदभाव के आरोप पर अखिलेश बोले कि हमने लैटपॉप या कन्या विद्याधन देने में कोई भेदभाव नहीं किया। न जाति के आधार पर, न धर्म के आधार पर। मैं जानना चाहता हूं कि किन बच्चों के साथ हमने भेदभाव किया। कहो तो योजनाओं का लाभ लेने वालों की सूची अखबारों में छपवा दूं। इतना कहते हुए अखिलेश यादव ने लैपटॉप पाने वाले कुछ छात्रों के नाम भी पढ़कर सुनाए। उन्होंने कहा कि समाजवादी ऐंबुलेंस से 2 करोड़ लोगों को मदद पहुंची। हमने 55 लाख महिलाओं को समाजवादी पेंशन दी। 18 लाख लैपटॉप बांटे। PM ने गोंडा में कहा कि यहां पर नकल बहुत होती है। मैं तो कहूंगा कि जिन बच्चों को हमने लैपटॉप दिया है, जिन बेटियों को कन्या विद्याधन सरकार से मिला है उनमें से कोई नकल से पास नहीं हुआ होगा। अपनी मेहनत से पास हुआ होगा। इन लोगों से मेरी अपील है कि चुनावों में इनको (BJP को) सबक सिखाए।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी को कालाधन या भ्रष्टाचार खत्म करने के तौर पर प्रस्तुत किया गया, लेकिन जहां चुनाव नहीं हैं, वहां लोग अब भी परेशान हैं। समाजवादी पार्टी की कथनी-करनी में कोई भेद नहीं है और जनता को हम पर भरोसा है। हम BJP के नेताओं, खासकर प्रधानमंत्री को बताना चाहते हैं कि आपकी कई रैलियां हो चुकी हैं, मन की बात भी करते हैं, UP की जनता जानना चाहती है कि आप कब काम की बात करते हैं। प्रदेश की जनता भी तो जाने कि केंद्र ने कौन सा काम सूबे की जनता के लिए किया है। आखिर में उन्होंने फिर यह भरोसा जताया कि गठबंधन को 300 से ज्यादा सीटें मिलेंगी।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया