यूपी में बस पर गिरा बिजली का तार, 3 लोग जिंदा जले; 4 घंटे बाद पहुंचे अफसर

Updated on: 20 June, 2019 11:32 PM

यूपी में भाथा और जसपुरा के बीच शनिवार की सुबह ब्रेक फेल होने से हमीरपुर डिपो की बस अनियंत्रित होकर सड़क के किनारे बिजली के खंभे से टकरा गई। बिजली का तार बस में गिरने से बस में आग लग गई जिससे बस आग का गोला बन गया। हादसे में बस सवार तीन लोगों की जिंदा जलकर मौत हो गई जबकि 15 लोगों के घायल हो गए हैं। इस हादसे के तकरीबन चार घंटे बाद अफसर घटनास्थल पर पहुंच सके। वहीं, फायर ब्रिगेड तीन घंटे बाद हादसे के स्थल पर पहुंची। बता दें कि  बस करीब 40 सवारियों को लेकर बांदा से हमीरपुर के लिए रवाना हुई थी।

बांदा से निकला बस भाथा गांव के बगीचे के पास पहुंची तो बस का ब्रेक फेल हो गया। बस अनियंत्रित होकर सड़क के किनारे बिजली के खंभे से टकरा गई। हादसे में बस धू-धू कर जलने लगी। बस में सवार कई यात्रियों ने खिड़की तोड़कर अपनी जान बचाई। वह खिड़की से बाहर निकले। 23 यात्रियों को चोटें आईं। कई यात्री झुलस गए। यात्रियों ने फोन करके बिजली सप्लाई बंद कराई। स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया।


यूपी में भाथा और जसपुरा के बीच शनिवार की सुबह ब्रेक फेल होने से हमीरपुर डिपो की बस अनियंत्रित होकर सड़क के किनारे बिजली के खंभे से टकरा गई। बिजली का तार बस में गिरने से बस में आग लग गई जिससे बस आग का गोला बन गया। हादसे में बस सवार तीन लोगों की जिंदा जलकर मौत हो गई जबकि 15 लोगों के घायल हो गए हैं। इस हादसे के तकरीबन चार घंटे बाद अफसर घटनास्थल पर पहुंच सके। वहीं, फायर ब्रिगेड तीन घंटे बाद हादसे के स्थल पर पहुंची। बता दें कि  बस करीब 40 सवारियों को लेकर बांदा से हमीरपुर के लिए रवाना हुई थी।

बांदा से निकला बस भाथा गांव के बगीचे के पास पहुंची तो बस का ब्रेक फेल हो गया। बस अनियंत्रित होकर सड़क के किनारे बिजली के खंभे से टकरा गई। हादसे में बस धू-धू कर जलने लगी। बस में सवार कई यात्रियों ने खिड़की तोड़कर अपनी जान बचाई। वह खिड़की से बाहर निकले। 23 यात्रियों को चोटें आईं। कई यात्री झुलस गए। यात्रियों ने फोन करके बिजली सप्लाई बंद कराई। स्थानीय लोगों की मदद से घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया।


घटना के बाद काफी देर तक बस जलती रही लेकिन प्रशासन का कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा और न तो मौके पर फायर ब्रिगेड भेजा गया। बस जलकर पूरी तरह से राख हो गई। अधिकारी मुख्यमंत्री के स्वागत की तैयारी में थे इसलिए मौके पर नहीं गए। इससे लोगों में आक्रोश था। स्थानीय पुलिस ने शवों को कब्जे में ले लिया।
हादसे में ये हुए जख्मी

रामदुलारी, ललिता, लक्ष्मी,  अंतिमा, बिंदी,  रामनरेश, राधा, कुलदीप,  डाक्टर रिजवी, अवधेश,  शशिकांत, अतर सिंह,  अरविंद,  लीलावती,  इंद्री,  कुलदीप,  राजीव,  अंशू देवी, अमित,  श्रीचंद्र, किरण,  राजेंद्र जख्मी हो गए। मरने वाले लोगों की अभी पहचान नहीं हो पायी।

  

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया