शाबाश ! बदमाशों से भिड़ गई गुड़िया, एक की गर्दन दबोची

Updated on: 22 October, 2019 03:04 PM

चित्रकूट की गुड़िया ने अपने साहस से न केवल खुद को लुटने से बचाया बल्कि पति और ससुर की हिम्मत बढ़ा कर उनको भी बदमाशों के चंगुल से छुड़ा लिया। गुड़िया का ही साहस था कि उसने तमंचा लिए बदमाश की गर्दन एक बार दबोची तो फिर नहीं छोड़ी। बदमाश ने उसका गला दबाना चाहा तो गुड़िया ने उसके सर पर ईंट दे मारी।

चित्रकूट के बहिलपुरवा थाने के गांव रूकमा खुर्द  की गुड़िया पति कृष्णपाल और चचिया ससुर कमलेश सोमवार देर रात घर लौट रही थी। देवांगना घाटी पर पंपापुर आश्रम के पास दो बाइकों पर पांच बदमाशों ने उनको रोक लिया। दोनों पुरूषों को तमंचे की नोंक पर बंधक बनाकर बदमाश मुख्य मार्ग से जंगल के अंदर ले गए। एक बदमाश गुड़िया के जेवर उतारने लगा, विरोध करने पर बेरहमी से उसकी पिटाई शुरू कर दी। गुड़िया की चीख-पुकार की आवाज सुन जंगल के अंदर पति और चचिया ससुर बदमाशों से भिड़ गए। एक बदमाश ने चचिया ससुर पर गोली भी चला दी लेकिन बच गए।

गुड़या भी लूटपाट कर रहे बदमाश से भिड़ गई, उसने ईंट उठाई और बदमाश के सर पर दे मारा। बदमाश ने उस पर हमला करना चाहा तो गुड़िया उससे लिपट गयी और शोर मचाने लगी। इसी बीच गांव के दो लोग उसी रास्ते में बाइक से गुजरे। उन्होंने गुड़िया से भिड़े बदमाश को ललकारा तो जंगल से बाहर आए बदमाशों ने उन पर तमंचा तान दिया और फायर कर दिया। घायल गुड़िया ने बदमाश को फिर भी नहीं छोड़ा। इससे पति और चचिया ससुर की हिम्मत बढ़ गई और वे भी दमाशों से भिड़ गए।

बदमाश ने खुद को छुड़ाने के लिए गुड़िया का गला दबाने की कोशिश की लेकिन उसे नहीं छोड़ा। दूसरे ग्रामीण भी गुड़िया की बहादुरी देख आगे बढ़े तो अपने साथी को छोड़ चार बदमाश भाग निकले। इसी बीच ग्रामीण ने ग्राम प्रधान को फोन कर दिया, खबर पहुंची तो गांव से लाइसेंसी असलहे लेकर ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। जीप से गुड़िया समेत घायल ग्रामीणों व पकड़े गए बदमाश को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। पूरा काम हो गया तब पुलिस मौके पर पहुंंची। पकड़े गए बदमाश ने साथियों के नाम-पते बताए हैं। सीओ ने कहा कि यह गैंग काफी दिनों से इस घाटी पर सक्रिय है लेकिन गुड़िया की बहादुरी से अब इस गैंग का पता चल पाया।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया