कैंट स्टेशन पर शुद्ध पानी का दावा हवा में, 69 सैंपल फेल

Updated on: 17 October, 2019 07:11 AM

Center, वाराणसी
कैंट स्टेशन पर आने-जाने वाले यात्री प्रदूषित पानी पी रहे हैं। स्टेशन पर जलापूर्ति करने वाले 10 वाटर पंपों में छह बिना क्लोरिनेटर के चल रहे हैं। पानी की टंकियों में दूषित पानी जा रहा है। इसका खुलासा पानी के नमूनों की जांच रिपोर्ट से हुआ है। इससे स्टेशन पर शुद्ध जलापूर्ति के दावों की पोल खुल गई है। हर रोज स्टेशन से सवा लाख से अधिक यात्री गुजरते हैं। मई में कैंट रेलवे स्टेशन पर गंदे पानी की शिकायत मिलने के बाद हुई सैम्पलिंग की रिपोर्ट आ गई है। स्टेशन के विभिन्न हिस्सों से लिए गए 122 में से 69 सैम्पल जांच में फेल हो गए। इन नमूनों में क्लोरीन की मात्रा नहीं पाई गई है। 53 नमूने ही जांच में पास हुए। जब की हर दिन जलापूर्ति से पहले पानी में क्लोरिनेशन करना अनिवार्य है। वाटर वेंडिंग मशीनों में इस पानी की आपूर्ति होने से टीडीएस भी बढ़कर आ रहा है। इससे यात्रियों के अलावा स्टेशन के कर्मचारियों के स्वास्थ्य पर भी असर पड़ रहा है। वाराणसी कैंट के एईएन ने बताया कि हम सैंपलिंग की निगेटिव रिपोर्ट के कारणों का पता लगा रहे हैं। फिलहाल अभी दस पम्प में से चार में ही क्लोरीनेटर लगा है, बाकी के लिए शासन को रिपोर्ट भेज दी है। जल्द ही क्लोरीनेटर लगने के बाद समस्या दूर हो जायेगी। 

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया