योगी की मंत्री स्वाति सिंह ने भंडारे में प्रसाद के साथ बांटे 100-100 के नोट

Updated on: 19 June, 2019 07:17 PM

लखनऊ.यूपी सरकार में राज्यमंत्री स्वाति सिंह ने मंगलवार को एक भंडारे का आयोजन किया। खास बात यह रही कि इस दौरान वे लोगों को प्रसाद के साथ 100 रुपए भी बांटती नजर आईं। बता दें, स्वाति सिंह इन दिनों चर्चा में बनी हुई हैं। चर्चा है कि सीएम योगी भी बियर बार मामले के बाद मंत्री से नाराज हैं। स्वाति सिंह के कार्यालय में बांटा गया प्रसाद...

- कृष्णानगर के लोकबन्धू अस्पताल के सामने लखनऊ के सरोजनीनगर सीट से विधायक स्वाति सिंह का कार्यालय है। मंगलवार को यहां भंडारे का आयोजन किया गया।
- भंडारे की शुरुआत मंत्री स्वाति सिंह ने की। इस दौरान उन्होंने प्रसाद की हर प्लेट में 100-100 रुपए रखे और उन्हें लोगों को दिया।
- प्रसाद के साथ 100 रुपए मिलने की जानकारी के बाद आस-पास के लोग बड़ी संख्या में भंडारे पर पहुंचे। भंडारे में बढ़ती भीड़ को देखते हुए लाइन लगाकर प्रसाद बांटा गया।
ये उनका व्यक्तिगत जीवन, इसमें कुछ गलत नहीं: बीजेपी प्रवक्ता
- इस मामले पर बीजेपी प्रवक्ता हरीशचंद्र श्रीवास्तव ने कहा- ''राजनीति के अलावा भी हर व्यक्ति का अपना जीवन होता है। अपने श्रद्धा के अनुसार हर कोई पूजा व धार्मिक अनुष्ठान के साथ दान दक्षिणा करता है। ये उनका व्यक्तिगत जीवन है। इसमें कुछ गलत नहीं है।''
योगी के साथ मंच पर नहीं मिली थी जगह
- चर्चा है कि सीएम योगी आदित्यनाथ इन दिनों स्वाति सिंह से नाराज चल रहे हैं। सोमवार को अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस के मौके पर आयोजित 'कनेक्ट विद नेचर प्रोग्राम' में योगी की मंत्री स्वाति सिंह से नाराजगी साफ दिखाई दी।
- दरअसल, इस प्रोग्राम के दौरान मंच पर सीएम के साथ कैबिनेट के बाकी मंत्री तो मौजूद रहे, लेकिन स्वाति सिंह को योगी के साथ मंच पर बैठने की जगह नहीं मिली। इसके बाद वे पूरे कार्यक्रम में दर्शक दीर्घा में ही बैठी रहीं। मंच पर कुल 12 मंत्री मौजूद थे और स्वाति सिंह दर्शक दीर्घा में बैठी थीं।
- बता दें, कुछ दिनों पहले लखनऊ में स्वाति सिंह ने एक बियर बार का इनॉगरेशन किया था। बाद में मामले के मीडिया में हाईलाइट होने के बाद खुद योगी आदित्यनाथ ने इस पर मंत्री से स्पष्टीकरण​ मांगा था।
क्या था बियर बारमामला?
- जालौन की एक महिला ने लखनऊ में 'बी द ब‍ियर' नाम से एक बियर बार खोला था, ज‍िसका 20 मई को राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार स्वाति सिंह ने इनॉगरेशन किया। इस दौरान उनके पति भी साथ में मौजूद थे।​​ कुछ द‍िनों पहले इस प्रोग्राम के फोटोज वायरल होने लगे। फोटो में स्वात‍ि स‍िंह ब‍ियर बार का र‍िबन काटते द‍िख रही हैं।
- फोटोज वायरल होने के बाद विपक्ष ने योगी सरकार पर सवाल उठाए। अपोजिशन ने योगी आदित्यनाथ से मामले पर सफाई मांगी और स्वाति को मंत्री पद से हटाने की मांग की।
- कांग्रेस विधायक दल के नेता अजय कुमार ने कहा था, ''तस्वीर में बीजेपी का असली चेहरा दिखता है। जब प्रदेश की महिलाएं शराब पर बैन के लिए प्रदर्शन कर रही हैं। तो बीजेपी की एक महिला मंत्री बियर बार का इनॉगरेशन कर रही हैं। इससे साबित होता है कि योगी सरकार शराब और बार को प्रमोट कर रही है। हम इसके खिलाफ प्रदर्शन करेंगे।''
- वहीं, समाजवादी पार्टी के स्पोक्सपर्सन राजेंद्र चौधरी ने कहा था, "ये योगी सरकार का दूसरा चेहरा है। अगर सीएम इसके खिलाफ हैं तो बयान जारी करें और मंत्री को फौरन पद से हटाएं। बीजेपी गिरगिट की तरह रंग बदलती है। सरकार बनने से पहले बड़ी-बड़ी बातें करते हैं और सत्ता में आते ही सब भूल जाते हैं।"
सीएम ने मांगा था स्पष्टीकरण
- मामला बढ़ने के बाद योगी आदित्यनाथ ने स्वाति स‍िंह से सफाई मांगी। इसके बाद 1 जून को मामले में स्पष्टीकरण​ देने सीएम ऑफि​स पहुंची​ स्वात‍ि स‍िंह मीडिया द्वारा पूछे जाने पर कि आपने सीएम के सामने क्या सफाई दी है, वो भड़क गई।​ उन्होंने कहा, 'सीएम से पूछो हमने क्या सफाई दी। हमसे स्पष्टीकरण मांगा गया था, जो उन्हें सौंप दिया गया है।''
बीएसपी के प्रोटेस्ट से बनी थी स्वाति नेता
- 2016 में स्वाति सिंह के पति दयाशंकर सिंह ने मायावती पर अभद्र कमेंट किया था। इसके जवाब में बसपा ने सड़कों पर प्रदर्शन के दौरान स्वाति और उनकी बेटी पर कमेंट किए थे।
- इसको लेकर स्वाति सिंह ने मायावती के खिलाफ मोर्चा निकाला और एफआईआर भी दर्ज कराई थी। इस घटना के बाद स्वाति सिंह को पॉलिटिक्स में जगह मिली और नेता बनी।
- उन्होंने बीजेपी के टिकट पर लखनऊ सरोजनीनगर से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। इसके बाद उन्हें राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार के तौर पर कैबिनेट में शामिल किया गया।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया