यूपी में 40 हजार जनधन खाते फर्जी, नोटबंदी के दौरान जमा हुए 130 करोड़ से ज्यादा रुपये

Updated on: 22 April, 2019 02:35 AM

उत्तर प्रदेश के बैंकों में 40 हजार से अधिक ऐसे जनधन खातों की पहचान हुई है, जिनका कोई दावेदार सामने नहीं आ रहा है। इन खातों में भी 130 करोड़ रुपये से अधिक जमा हैं। नोटबंदी के दौरान इन खातों में अचानक बड़ी धनराशि जमा कराई गई थी। जांच में इन खाताधारकों ने कोई जवाब नहीं दिया। अब इन्हें जब्त करने की कवायद शुरू होने जा रही है।

नोटबंदी के दौरान जमा हुए कालेधन की परतें अब जांच में खुलने लगी हैं। आयकर विभाग ने लाखों बैंक खातों की जांच पड़ताल की। इसमें पहले दौर में 40 हजार से अधिक खाते संदिग्ध तौर पर बहुत अधिक कैश जमा कराने पर आयकर विभाग की नजर में आ गए। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि आरबीआई और केंद्र सरकार को रिपोर्ट भेजी जा रही है। निर्देश मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

छोटे कस्बों में अधिक खेल

आयकर विभाग के आंकड़ों के अनुसार मेरठ, बिजनौर, पीलीभीत छोटे कस्बों की बैंक शाखाओं में भी ऐसे खातों में खूब कैश जमा कराया गया। आजमगढ़, इलाहाबाद, चंदौली और वाराणसी की कई बैंक शाखाओं में भी कुछ जनधन खातों में संदिग्ध कैश जमा हुआ, जो सख्ती होने के बाद संचालित नहीं किए गए।

नाम-पता भी फर्जी

इन जनधन खातों को खोलने के लिए फर्जी नाम-पते का इस्तेमाल किया गया। कुछ खातों के ब्योरे में आधार कार्ड की फोटोकॉपी तो लगी है लेकिन जांच में यह फर्जी पाया गया।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया