मन की बात: हरियाणा हिंसा पर PM मोदी बोले- आस्था के नाम पर कानून हाथ में लेने का किसी को अधिकार नहीं

Updated on: 16 September, 2019 04:41 AM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को 35वीं बार रेडियो कार्यक्रम मन की बात के जरिए से जनता को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि ये देश बुद्ध और गांधी का देश है पीएम ने कहा कि उत्सवों के बीच में जब हिन्दुस्तान के किसी कोने से हिंसा की खबरें आती हैं तो देश को चिंता होना स्वाभाविक है। उन्होंने पंचकूला हिंसा का नाम लिये बगैर कहा कि आस्था के नाम पर, कानून हाथ में लेने का किसी को अधिकार नहीं है।

गणेश पूजा की शुभकामना देते हुए पीएम मोदी ने कहा इन दिनों हिन्दुस्तान के हर कोने में गणेश चतुर्थी की धूम मची हुई है। जब गणेश चतुर्थी की बात आती है तो सार्वजनिक-गणेशोत्सव की बात स्वाभाविक है। बाल गंगाधर लोकमान्य तिलक ने 125 साल पूर्व इस परंपरा को जन्म दिया। इस महापर्व को एकता, समता और शुचिता का प्रतीक कहा जाता है। 

जैन समाज के संवत्सरी पर्वा का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि संत्वरसरी का पर्व क्षमा, अहिंसा और मैत्री का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि जैन समाज में कल संवत्सरी का पर्व मनाया गया। जैन समाज में भाद्र मास में पर्युषण पर्व मनाया जाता है। संवत्सरी का पर्व क्षमा, अहिंसा और मैत्री का प्रतीक है। 

पीएम मोदी ने कहा कि केरल में ओणम का त्योहार मनाया जाता है। ओणम केरल का एक प्रमुख त्योहार है। यह पर्व अपने सामाजिक और सांस्कृतिक महत्व के लिए जाना जाता है। ओणम का पर्व, केरल की समृद्धि सांस्कृतिक धरोहर को प्रदर्शित करता है।

पीएम मोदी ने सभी देशवासियों को ईद उल जुहा की बहुत -बहुत बधाइयां दी। पर्यावरण को लेकर जागरूक करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि सजगता आज एक नया डायमेंशन है। उन्होंने कहा कि समाज में अगर आप इको फ्रेंडली व्यवहार के खिलाफ हैं तो आज वह बुरा माना जाता है। गणोत्सव में भी इको-फ्रेंडली गणपति, एक बड़ा अभियान बन गया है।  उन्होंने कहा कि हर घर में बच्चे मिट्टी ला करके गणेश जी बना रहे हैं, उसमें रंग पुताई कर रहे हैं। कोई सब्जी के रंग लगा है तो कोई कागज के टुकड़े चिपका रहा है।

स्वच्छता का जिक्र

स्वच्छता का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2 लाख 30 हजार से भी ज्यादा गांव, खुले में शौच से अपने आपको मुक्त घोषित कर चुक है। उन्होंने कहा कि तीन वर्ष पूर्व जब स्वच्छता का अभियान प्रारंभ किया था, 2 अक्टूबर को उसको तीन साल हो जाएंगे। शौचालयों की कवरेज 39 फीसदी से करीब-करीब 67 फीसदी पहुंची है।

स्वच्छता ही सेवा मुहिम चलाने की अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि गांधी जयंती से 15-20 दिन पहले से ही ‘स्वच्छता ही सेवा’ की एक मुहिम चलायें। उन्होंने कहा कि मैं आप सभी से आह्वाना करता हूं कि एक बार फिर गांधी जयंती से 15-20 दिन पहले से ही स्वच्छता ही सेवा की एक मुहिम चलाएं। पूरे देश में स्वच्छता के लिए माहौल बनाएं। आस पड़ोस की बस्ती में जायें, गांवों में जायें लेकिन एक आंदोलन के रूप में करें।

पीएम ने कहा कि मैं सभी एनजीओ, स्कूलों, कॉलेजों, सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक नेतृत्व को सरकार के अफसरों को, कलेक्टरों, सरपंचों से आग्रह करता हूं कि 2 अक्टूबर के पहले ही 15 दिन हम एक ऐसी स्वच्छता का वातावरण बनाएं कि 2 अक्टूबर सचमुच में गांधी के सपनों वाली 2 अक्टूबर हो जाए। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया के मित्र रचनात्मक अभियान चला सकते हैं और वर्चुअल वर्ल्ड का धरातल पर काम हो, उसकी प्रेरणा बना सकते हैं। 

29 अगस्तः राष्ट्रीय खेल-दिवस

पीएम मोदी ने कहा कि ये दिन महान हॉकी प्लेयर और हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद का जन्मदिवस है। उन्होंने कहा हॉकी के लिए उनका योगदान अतुलनीय था। उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि हमारे दे की नई पीढ़ी, खेल से जुड़े। खेल हमारे जीवन का हिस्सा बने।

पीएम मोदी ने कहा कि मैदान में खेलना, कंप्यूटर के प्ले-स्टेशन से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। पीएम ने सभी बच्चों को नसीहत देते हुए कहा कि कंप्यूटर के युग में तो मैं आगाह भी करना चाहूंगा कि प्लेइंग इन फिल्ड, प्ले-स्टेशन से ज्यादा महत्वपूर्ण है। कंप्यूटर पर फीफा खेलिये लेकिन बाहर मैदान में भी तो कभी फूटबॉल के साथ करतय करके दिखाइये। कंप्यूटर पर क्रिकेट खेलते होंगे लेकिन खुले मैदान में आसमान के नीचे क्रिकेट का आनंद कुछ और ही होता है। 

खेल प्रतिभा की खोज के लिए स्पोर्ट्स टैलेंट सर्च पोर्टल

पीएम मोदी ने कहा कि खेल मंत्रालय ने खेल प्रतिभा की खोज के लिए एक Sports Talent Search Portal तैयार किया है। पूरे देश से कोई भी बच्चा जिसने खेल के क्षेत्र में कुछ उपलब्धि हासिल की है, उनमें टैलेंट हो इस पोर्टल पर अपना बायो-डाटा या वीडियो अपलोड कर सकता है। चुने हुए उभरते खिलाड़ियों को खेल मंत्रालय प्रशिक्षण देगा और मंत्रालय कल ही इस पोर्टल को लॉन्च करने वाला है।  

बता दें कि पीएम मोदी के मन की बात का प्रसारण हिंदी के साथ-साथ 18 भाषाओं में भी किया जाता है। यह अंग्रेजी और संस्कृत में भी प्रसारित होती है।

पिछली मन की बात में पीएम ने किया था बाढ़, जीएसटी का जिक्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले महीने के अंतिम रविवार को की मन की बात में देशभर में आई बाढ़, जीएसटी आदि का जिक्र किया था। उन्होंने इस कार्यक्रम में तमाम राज्यों में आई बाढ़ का जिक्र करते हुए कहा कि इससे किसानों को नुकसान हुआ है। पीएम ने इस कार्यक्रम से पांच साल का एजेंडा भी दिया। उन्होंने गंदगी, गरीबी, जातिवाद आदि का नारा दिया।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया