डोक ला विवाद के बाद पीएम मोदी और प्रेसिडेंट शी जिनपिंग के बीच पहली बैठक जारी

Updated on: 15 November, 2019 04:59 PM

चीन के शहर शियामे में चल रहे ब्रिक्स सम्मेलन का आज दूसरा और आखिरी दिन है। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने बीच वार्ता हुई। इस दौरान ब्रिक्स से इतर दोनों नेता एक-दूसरे से काफी गर्मजोशी से मिले।

ब्रिक्स से इतर इस द्विपक्षीय वार्ता में नरेंद्र मोदी ने ब्रिक्स के सफल आयोजन के लिए चीन को बधाई दी। इस बैठक में चीनी प्रतिनिधिमंडल की ओर से राष्ट्रपति शी जिनपिंग, चीफ प्रवक्ता लू कांग, विदेश मंत्री वांग यी और स्टेट काउंसलर यांग जिची शामिल थे। बैठक में चीन ने कहा कि वह भारत के साथ पंचशील के सिद्धांतों के तहत काम करने को तैयार है।

द्विपक्षीय वार्ता में पीएम मोदी से चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि भारत और चीन एक दूसरे के प्रमुख पड़ोसी देश हैं। हम दुनिया के दो सबसे बड़े और उभरते हुए देशों में से एक हैं।  शी जिनपिंग ने कहा कि चीन और भारत के बीच स्वस्थ और स्थिर संबंध से ही दोनों देशों के लोगों के हितों की पूर्ति होती है। उन्होंने कहा कि चीन पंचशील के पांचों सिद्धांतों के मार्गदर्शन में भारत के साथ काम करने को तैयार है।

लाइव अपडेट्सः

10.02AM; प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने डोकलाम गतिरोध के बाद पहली द्विपक्षीय मुलाकात की
9.05AM; मोदी ने आतंकवाद से निपटने, साइबर सुरक्षा और आपदा प्रबंधन के लिए संगठित एवं समन्वित कदम उठाने का आह्वान किया।

9.02AM; मोदी ने ब्रिक्स विकासशील राष्ट्र संवाद में कहा कि बिना शर्त वाले हमारे सहयोग का मॉडल विशुद्ध रूप से साझेदार देशों की जरूरतों से निर्देशित हैं।

9.00AM; प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिक्स नेतृत्व की ओर से वैश्विक परिवर्तन के लिए की जाने वाली 10 उत्कष्ट प्रतिबद्धताओं का सुझाव दिया।

8.30AM: पीएम मोदी ने उभरते बाजार और विकासशील देश पर बोलते हुए कहा कि आतंकवाद, साइबर सुरक्षा और आपदा प्रबंधन जैसे क्षेत्रों में हमें समुचित कार्रवाई और सहयोग की आवश्यकता है।
8.15AM: ब्रिक्स में विकास के एजेंडे के लिए पीएम मोदी ने सबका साथ, सबका विकास का नारा दिया
8.15AM:  शियामेन में पीएम मोदी ने उभरते बाजार और विकासशील देशों पर बातचीत मीटिंग को संबोधित कोया।
8.00AM: ब्रिक्स देशों के उभरते बाजार और विकासशील देशों पर बातचीत के लिए पीएम मोदी, राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन इंटरनेशनल कॉनफ्रेंस सेंटर पहुंचे। 
7.30AM: ब्रिक्स देशों के नेताओं संग ग्रुप फोटो सेशन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शियामेन के इंटरनेशनल कॉनफ्रेंस सेंटर पहुंचे

 

ब्रिक्स को मोदी का मंत्र  'सबका साथ, सबका विकास' है जरूरी

ब्रिक्स समिट के अाखिरी दिन मोदी ने  'डायलॉग ऑफ इमरजिंग मार्केट एंड डेवलपिंग कंट्रीज' कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। मोदी ने कहा कि  अगला दशक ब्रिक्स देशों के लिए बेहद अहम है। इसके लिए पीएम मोदी ने 'सबका साथ-सबका विकास' का नारा दिया और कहा कि यह बेहद जरूरी है।

कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने आतंकवाद से मुकाबले, साइबर सुरक्षा और आपदा प्रबंधन में सहयोग और समुचित कार्रवाई पर जोर दिया। कॉन्फ्रेंस में सदस्य देशों के  नेताओं ने विकासशील देशों में बढ़ रहे बाजार पर भी चर्चा की।

आतंकवाद पर भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत
ब्रिक्स सम्मेलन में पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने कल सोमवार को जोरदार ढंग से आतंकवाद का मुद्दा उठाया तो तमाम सदस्य देश उनका समर्थन करने को मजबूर हो गए। ब्रिक्स के घोषणापत्र में जोर देकर कहा गया है कि आतंकवाद को किसी हाल में और किसी भी रूप में सही नहीं ठहराया जा सकता है। खासबात ये है कि इस घोषणापत्र में पाकिस्तान के कई आतंकी संगठनों का जिक्र है उससे साफ हो गया है कि पीएम मोदी की पहल के आगे चीन अपने ‘दोस्त’ को बचा नहीं पाया। इसे आतंकवाद के मुद्दे पर भारत को बड़ी कूटनीतिक जीत मिली। चीन चाहता था कि भारत इस मंच पर पाक के खिलाफ आतंकवाद का मुद्दा न उठाए, लेकिन ब्रिक्स देशों के घोषणापत्र में आतंकवाद की कड़ी निंदा की गई है। ब्रिक्स देशों ने क्षेत्र की सुरक्षा स्थिति के साथ-साथ तालिबान, आईएसआईएस, अल-कायदा और लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद एवं हक्कानी नेटवर्क समेत इसके सहयोगी संगठनों द्वारा की जाने वाली हिंसा पर चिंता जाहिर की।

आतंकवाद की अंतरराष्ट्रीय परिभाषा तय हो

ब्रिक्स समूह ने संयुक्त राष्ट्र महासभा से आतंकवाद की अंतरराष्ट्रीय परिभाषा तय करने और इसके खिलाफ संयुक्त राष्ट्र के के वैश्विक समझौते को लागू करने का भी आह्वान किया। सम्मेलन में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन, ब्राजील के राष्ट्रपति माइकल टेमर, दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति जैकब जुमा ने आतंकवाद के खिलाफ सामूहिक कार्रवाई का समर्थन किया।

जीएसटी पर बोले पीएम मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ब्रिक्स व्यापार परिषद की बैठक में कहा कि माल और सेवा कर (जीएसटी) भारत के सबसे बड़े आर्थिक सुधार में से एक है। उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया, स्टार्ट-अप इंडिया और मेक इन इंडिया जैसे कार्यक्रम भारत के आर्थिक परिदृश्य को बदल रहे हैं। ये कार्यक्रम भारत को ज्ञान आधारित, कौशल समर्थित टेक्नोलॉजी आधारित समाज में बदलने में मदद कर रहे हैं।

ब्रिक्स क्रेडिट रेटिंग एजेंसी का जल्द गठन हो
पीएम मोदी ने पश्चिमी रेटिंग एजेंसियों का मुकाबला करने और विकासशील देशों की सरकारी एवं कॉरपोरेट इकाइयों की वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए ब्रिक्स क्रेडिट रेटिंग एजेंसी बनाने की पुरजोर वकालत की। प्रधानमंत्री ने कहा कि इससे सदस्य देशों के साथ अन्य विकासशील देशों की भी मदद होगी।

पुतिन और मोदी के बीच व्यापार, निवेश व अफगानिस्तान पर चर्चा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने  द्विपक्षीय व्यापार एवं निवेश बढ़ाने के तरीकों के साथ ही अफगानिस्तान में सुरक्षा स्थिति पर चर्चा की। दोनों देशों ने तेल एवं प्राकृतिक गैस क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया।

एनएसजी पर भी भारत को समर्थन
घोषणापत्र में परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारत की सदस्यता को लेकर सकारात्मक रुख दिखाया। इसमें जोर दिया गया कि उच्च तकनीक हासिल करने के लिए अनुकूल माहौल बनाया जाए।
क्या है डोकलाम विवाद?

गौरतलब है कि डोकलाम में चीन और भारत की सेनाओं के बीच तनातनी की शुरुआत 16 जून को हुई थी। जब भारतीय सेना ने चीन को डोकलाम में सड़क बनाने से रोक दिया था। करीब 73 दिनों तक चले गतिरोध के बाद बीते 28 अगस्त को भारत और चीन ने गतिरोध सुलझाने और डोकलाम से अपनी-अपनी सेनाएं हटाने का एलान किया।

जिनपिंग से बातचीत के बाद म्यांमार रवाना हो जाएंगे मोदी

ऐसे में कुछ जानकारों का मानना है कि दोनों देश मोदी-जिनपिंग मुलाकात के दौरान डोक ला विवाद का मुद्दा फिर से छेड़ना पसंद नहीं करेंगे। माना जा रहा है कि दोनों देशों के बीच अब ये भाव है कि गतिरोध सुलझने के बाद अब ‘आगे बढ़ना चाहिए’। पीएम मोदी शी जिनपिंग से बातचीत के बाद म्यांमार के लिए रवाना हो जाएंगे।

चीन में आज क्या रहेगा पीएम मोदी का कार्यक्रम
भारतीय समय के मुताबिक-

सुबह 7.30 से 9:10 बजे- ग्रुप फोटो सेशन और ब्रिक्स देशों के उभरते बाजार पर बातचीत

सुबह 9:20 बजे मिस्र के साथ द्विपक्षीय बातचीत

सुबह 10 बजे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ बातचीत

सुबह 11 बजे पीएम मोदी म्यांमार के लिए रवाना हो जाएंगे

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया