हृदयविदारकः झांसी में रेप पीड़िता ने तीन मासूमों संग किया आत्मदाह

Updated on: 22 October, 2019 03:00 PM

मोठ थाना क्षेत्र के एक गांव में बुधवार दोपहर बाद रेप से क्षुब्ध महिला ने तीन बच्चों के साथ आत्मदाह कर लिया। एक दिन पहले उसने ननद को फोन पर बताया था कि उसके साथ पड़ोस के ही दो दबंग युवकों ने दुष्कर्म किया है, साथ में यह भी कहा था अब उसका जीना बेकार है। महिला का पति उरई में पल्लेदारी का काम करता है।

उक्त निवासी महिला अपने तीन मासूम बच्चों के साथ गांव में ही रहती थी। बुधवार दोपहर बाद महिला ने तीनों बच्चों को अपने साथ कमरे में बंद कर लिया और मिट्टी का तेल डाल कर आग लगा ली। घर से आग की लपटें उठने पर आसपास के लोगों का ध्यान उधर गया, लोग पास गये तो बच्चों की चीखें सुनाई पड़ीं।


ग्रामीणों ने दरवाजा खोलना चाहा लेकिन अंदर से कुंडी बंद थी, इस पर उऩ्होंने घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलने पर एसडीएम सुरेन्द्र कुमार, सीओ आशापाल और थाने की पुलिस व दमकल वाहन पहुंच गए। दमकल कर्मियों ने आग बुझाई जिसके बाद पुलिस ने दरवाजा तोड़ा। पुलिस के अंदर दाखिल होने से पहले महिला और तीनों बच्चे दम तोड़ चुके थे। पुलिस ने चारों शवों को बाहर निकाल कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

ननद ने बताया, दी थी रेप की जानकारी

ननद ने बताया कि भाभी ने एक दिन पहले ही बताया था कि मोहल्ले के दो दबंग युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया है। भाभी ने यह भी कहा था कि वह किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं बची इसलिए मर जाएगी। उसने यहां तक कहा था कि बच्चों को अपने साथ ले जाएंगी क्योंकि उसके बाद उनको कौन पालेगा। हालांकि उसने ऐसा करने से मना किया था और जल्दी गांव आने को कहा था।

पुलिस से लगाई पति की रक्षा की गुहार

घटना की सच्चाई बताने वाली वाली ननद आरोपियों से खौफ में है। उसने मौके पर मौजूद सीओ और एसडीएम से कहा कि सही घटना बताने पर उसके पति और भाई की हत्या हो सकती है। उसने दोनों की रक्षा की गुहार लगाई।

सीओ व एसडीएम ने कहा, पति बताएगा सच्चाई

सीओ का कहना है कि पति के आने पर ही आत्महत्या का कारण स्पष्ट हो सकेगा। उन्होंने कहा कि रेप की कोई जानकारी उनको नहीं दी गई है। वहीं एसडीएम ने कहा कि आर्थिक तंगी के चलते आत्महत्या की आशंका है, वैसे कई तरह की बातें सामने आ रही हैं। घटना की जांच की जा रही है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया