अस्पताल में राहुल गांधी ने जाना पीड़ितों का हाल

Updated on: 10 December, 2019 06:24 PM

यूपी के रायबरेली में एनटीपीसी ऊंचाहार ईकाई में हुए हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़ती ही जा रही है।मौत का आंकड़ा अब तक 27 हो गया है। एनडीआरएफ की टीम कल शाम हादसे के बाद से अब तक राहत कार्य में जुटी है। गंभीर रूप से घायल व्यक्तियों को लखनऊ और कुछ लोगों को दिल्ली एम्स भेजा गया है। बाकियों का इलाज रायबरेली में चल रहा है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पीड़ितों से मिलने अस्पताल पहुंचे और उनका हालचाल लिया। अब वे वहां से एनटीपीसी के लिए रवाना हो गए हैं।

कांग्रेस नेता राजबब्बर भी ऊंचाहार जाएंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने हादसे की जांच के आदेश दिए हैं और मृतकों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने भी इस हादसे पर शोक जताया है।

गया बिहार का चंदन भी चल बसा

घटना के बाद करीब पांच घंटे तक छटपटा रहे मजदूरों को उपचार के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है।सिविल अस्पताल के निदेशक डाक्टर हिम्मत सिंह दानू के मुताबिक हादसे के बाद यहां गुरुवार की सुबह तक कुल 30 झुलसे मजदूर पहुंचे।इनमें 1 मजदूर कमलेश कुमार की मौत अस्पताल पहुंचने से पहले ही हो गई थी। देर रात उपचार के दौरान अस्पताल में भर्ती मजदूर गया बिहार के चंदन कुमार, ऊंचाहार के रामरतन,वीरेंद्र, अरविंद व छोटेलाल की मौत हो गई।

ऐसे हुआ हादसा

बुधवार को ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी की 500 मेगावाट की 6वीं इकाई में ब्वायलर की राख वाली पाइप अचानक फट गयी। इस हादसे की चपेट में सौ से अधिक कर्मचारी आ गये। बताया जा रहा है कि 27 से अधिक श्रमिकों की मौत हो गयी है। घटना के बाद दर्जनों घायलों को जिला अस्पताल और शहर के एक निजी अस्पताल में भेजा गया। कुछ घायलों को एनटीपीसी के अस्पताल में भी भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि यह घटना शाम चार बजे हुई है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज पहले रायबरेली जाएंगे, पीड़ितों से मिलेंगे और फिर दोपहर बाद गुजरात के लिए रवाना होंगे।
घटना के बारे में एनटीपीसी प्रबंधन का कोई जिम्मेदार अफसर कुछ नहीं बोल रहा है। एनटीपीसी की सभी छह इकाइयों में विद्युत उत्पादन चल रहा था। दोपहर बाद करीब साढ़े तीन बजे छठवीं इकाई में भयंकर विस्फोट हुआ। विस्फोट ब्वायलर से राख निकालने वाली पाइप में हुआ। यह भारी भरकम पाइप इकाई से सीधे ऐश पांड को जाती है। जो यूनिट में करीब 90 फुट की ऊंचाई पर है। वहां काफी संख्या में श्रमिक काम कर रहे थे। बहुत बड़े व्यास वाली पाइप के फटने से काफी मात्रा में आग की तरह तप रही राख का मलबा बाहर आया और तमाम लोग राख के मलबे में दब गए।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया