लखनऊ की हवा में जहर, एयर क्वालिटी इंडेक्स में 7वें नबर पर

Updated on: 19 June, 2019 07:22 PM

दिल्ली एनसीआर के साथ-साथ उत्तर भारत में भी धुंध लोगों के लिए जी का जंजाल बन गई है। ठंड की दस्तक तो हो गई है, लेकिन प्रदूषण के साथ हुई है। यूपी की राजधानी लखनऊ की हवा इतनी जहरीली हो गई है कि लखनऊ को एयर पॉल्यूशन के मामले में सातवें नंबर पर रख लिया गया है।

पिछले दो दिनों से लखनऊ में प्रदूषण का स्तर बढ़ गया है। एयर क्वॉलिटी इंडेक्स की रिपोर्ट के मुताबिक, लखनऊ में प्रदूषण का लेवल 430 माइक्रोग्राम हो गया है। लोगों को सांस लेने में बहुत परेशानी हो रही है। मास्क भी काम नहीं  कर रहे हैं। लखनऊ में दो दिनों से धूप नहीं दिख रही है, ये केवल कोहरे की वजह से नहीं है, बल्कि इसका असली कारण प्रदूषण है।

इससे पहले यूपी के कई शहरों में धुंध के कारण दृश्यता कम हो गई और वाहन आपस में टकरा गए। वातावरण में छाई जहरीली धुंध जहां दमा रोगियों की परेशानी बढ़ा रही है। दो दिन से धुंध ने सड़कों पर चलना दुश्वार कर दिया है। मंगलवार को जहां हाईवे-24 पर कई वाहन टकराए थे, वहीं बुधवार की शाम फिर से धुंध ने शहर समेत जनपद को ढक लिया। शाम होते ही वाहनों की लाइटें जल गईं और हाईवे पर दिखाई देना भारी हो गया। थोड़ी दूर जाने में ही घंटों लग गए तथा वाहन एक दूसरे के पीछे धीमी रफ्तार से चलने शुरू हो गए।

देर शाम को आई धुंध सड़क पर लोगों के लिए मुसीबत बनकर आई क्योंकि सुबह चार बजे थाना देहात अंतर्गत दिल्ली-लखनऊ बाईपास पर दिखाई न देने के कारण दिल्ली की तरफ से जा रहे वाहन आपस में टकरा गए। एक दूसरे के पीछे आ रहे वाहन आपस में टकराते चले गए और 12 वाहन आपस में भिड़ गए, जिसमें बरेली डिपो की बस समेत कार तथा भारी वाहन भी थे। आपस में वाहनों के टकराने से हाईवे-24 पर लंबा जाम लग गया जबकि ज्यादा धुंध होने के कारण पुलिस भी एक घंटे में मौके पर पहुंच पाई। वाहनों को वहां से हटाया गया। इस टक्कर में रोडवेज चालक समेत छह लोग घायल हो गए। घायलों को स्थानीय नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया