छत्तीसगढ़: इस साल नक्सल प्रभावित इलाकों में तैनात 36 जवानों ने की आत्महत्या

Updated on: 20 July, 2019 03:15 AM

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित इलाकों में तैनात 36 जवानों ने इस साल आत्महत्या की है। यह संख्या पिछले दस सालों में किसी भी साल इस इलाके में जवानों द्वारा की गई आत्महत्या से अधिक है। यह जानकारी हमारे सहयोगी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स ने आधिकारिक डाटा के हवाले से दी है।

आत्महत्या करने वालों में राज्य पुलिस के अलावा केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) के जवान शामिल हैं। इससे पहले साल 2009 में सबसे ज्यादा 13 जवानों ने आत्महत्या की थी।

छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा एकत्रित किए गए डाटा की मानें तो नक्सल प्रभावित 11 जिलों में वर्ष 2007 से अभी तक 115 जवान आत्महत्या कर चुके हैं। इस साल 31% अधिक जवानों ने सुसाइड किया है।

एक सूत्र ने बताया कि आत्महत्या के पीछे लगातार बढ़ रहे अवसाद, छुट्टियों की कमी और काम करने में आने वाली मुश्किलें भी हो सकती है।

इस मामले में छत्तीसगढ़ के स्पेशल डायरेक्टर जनरल (नक्सल ऑपरेशंस) डीएम अवस्थी ने बताया कि यह काफी परेशान करने वाला आंकड़ा है। उन्होंने कहा, 'इस मामले की तफ्तीश करने के लिए एसपी के स्तर के अधिकारी की नियुक्ति की जाएगी। हम साल 2015 में 6, 2016 में 12 और इस साल होने वाले आत्महत्या पर फोकस करेंगे।'

उन्होंने कहा कि यदि इस मामले में मनोवैज्ञानिकों की जरूरत होती है तो उनकी भी मदद ली जा सकती है। वहीं, बस्तर में तैनात एक अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने नाम न उजागर करने की शर्त पर बताया कि जवानों की आत्महत्या की संख्या में बढ़ोतरी होना सुरक्षा कर्मियों के हौसले को तोड़ता है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया