यूपी में अलीगढ़ के थाना अकराबाद क्षेत्र के नानऊ-चांदगढ़ी मार्ग पर शुक्रवार देर रात हुई मुठभेड़ में ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाका दहल गया। करीब 25-" /> अलीगढ़: कार लूटकर भाग रहे बदमाशों से पुलिस की घंटो तक फायरिंग, अबतक 3 बदमाश ढेर

अलीगढ़: कार लूटकर भाग रहे बदमाशों से पुलिस की घंटो तक फायरिंग, अबतक 3 बदमाश ढेर

Updated on: 21 April, 2019 04:22 PM

यूपी में अलीगढ़ के थाना अकराबाद क्षेत्र के नानऊ-चांदगढ़ी मार्ग पर शुक्रवार देर रात हुई मुठभेड़ में ताबड़तोड़ फायरिंग से इलाका दहल गया। करीब 25-30 राउंड फायरिंग हुई। फरार बदमाशों की तलाश में घंटों कॉम्बिंग हुई, लेकिन पुलिस को कोई सफलता नहीं मिली। मृतक अभियुक्त के खिलाफ 20 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं।

अकराबाद में जसरथपुर के पास बदमाश गांव जिरौली डोर निवासी पूर्व प्रधान जितेंद्रपाल सिंह से कार लूटकर भाग रहे बदमाशों से नानऊ-चांदगढ़ी के पास जब पुलिस से मुठभेड़ हुई तो दोनों तरफ से ताबड़तोड़ फायरिंग होने लगी। बदमाशों के पास कारबाइन भी। इसलिए बदमाशों ने कारबाइन व तमंचों से पुलिस से मुकाबला किया। घटनास्थल पर बिखरे मिले खाली कारतूस के खोखे मुठभेड़ की भयाभयता को बयां कर रहे थे। सूचना मिलने पर गंगीरी व छर्रा का पुलिस फोर्स पहंुचा तो बदमाशों को लगा कि अब वे बुरी तरह फंस गए हैं। इसलिए कार से निकलकर बदमाश ताबड़तोड़ फायरिंग करते हुए भागने लगे। तभी एक बदमाश को गोली गई, जिससे वह वहीं गिर गया। जबकि उसके साथी उसे छोड़कर भाग निकले। पुलिस ने घटनास्थल से कारबाइन व लूटी गई कार को बरामद कर लिया।

बदमाशों पर आखिर कहां से आई कारबाइन

पुलिस को घटनास्थल से मिली कारबाइन को लेकर सवाल खड़े हो गए हैं। कारबाइन बदमाशों पर कहां से आई, यह सरकारी है या फिर किसी की लाइसेंसी है, इस बारे में पुलिस पड़ताल में जुटी हुई है।

हाईवे पर बड़ी लूट की फिराक में थे बदमाश

उत्तराखंड के बदमाशों की पिछले तीन दिनों से बौनेर के पास दिल्ली हाईवे पर लोकेशन मिल रही थी। मगर स्थानीय पुलिस को यह नहीं पता था कि ये बदमाश उत्तराखंड के हैं। पुलिस का मानना है कि बदमाश हाईवे पर किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। कार लूटकर भागने के दौरान एक बदमाश मुठभेड़ में ढेर हो गया।

कहीं जिले के अपराधियों से तो नहीं था कनेक्शन

उत्तराखंड के बदमाश अलीगढ़ क्यों आए, कहीं उनके कनेक्शन स्थानीय अपराधियों से तो नहीं थे। वह यहां किससे मिलने आए और कब से रुके हुए थे, ऐसे ही तमाम सवालों की जांच में पुलिस जुट गई है।

फरारी काटने के लिए तो नहीं आए अलीगढ़

मुठभेड़ में मारे गए अभियुक्त रमजानी पर सहारनपुर, रुड़की के थाना मंगलौर व भगवानपुर में करीब तीन दर्जन लूट व डकैती के मुकदमे दर्ज थे। उस पर 75 हजार का इनाम भी घोषित था। वह वांछित मुकदमों में फरार चल रहा था। सूत्रों का कहना है कि अभियुक्त रमजानी अपने साथियों के साथ फरारी काटने के लिए अलीगढ़ आया था।

रास्ता खराब होने पर खा गए गच्चा

जसरथपुर के पास कार लूटने के बाद पीड़ित जितेंद्रपाल ने राहगीरों की मदद से पुलिस को फोन किया। इस पर वायरलेस पर सूचना प्रसारित कर दी गई। उस वक्त बरला सीओ अनुज कुमार चौधरी गश्त पर थे। इधर थाना गांधी पार्क से एसओजी भी सूचना मिलते ही घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। वहीं कार लेकर भाग रहे बदमाश नानऊ रोड पर सड़क कटी हुई थी, जिससे वह गच्चा खा गए। इधर, पुलिस ने उन्हें चारों ओर से घेर लिया। मुठभेड़ में बदमाश के सिर और पैर में गोली लगना बताया गया है।

दरोगा के पैर में लगी गोली

मुठभेड़ के दौरान कौड़ियागंज चौकी प्रभारी अरविंद कुमार भी जांघ में गोली लगने से घायल हो गए। उन्हें विष्णुपुरी स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया है। घटनास्थल से लौटकर एसएसपी राजेश कुमार पाण्डेय ने घायल एसआई का हाल जाना।

अब तक मुठभेड़ में तीन बदमाश हुए ढेर

जिले में पुलिस मुठभेड़ में अब तक तीन बदमाश ढेर हो चुके हैं। 28 सितंबर को जवां क्षेत्र के सीडीएफ चौकी के पास हुई मुठभेड़ में फरार अभियुक्त विकास खुजली गोली लगने से ढेर हो गया था। वहीं आठ अगस्त 2015 को बन्नादेवी के गैस गोदाम के पास हुई मुठभेड़ में 50 हजार का इनामी भोला भी गोली लगने से ढेर हो गया था। अब 75 हजार का इनामी रमजानी भी मुठभेड़ में मारा गया है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया