यूपी: बसपा नेता अतुल राय हिरासत में, टोल प्लाजा के पास की थी फायरिंग`

Updated on: 17 October, 2019 02:11 PM

डाफी टोल प्लाजा पर हवाई फायरिंग के मामले में शनिवार को क्राइम ब्रांच और लंका पुलिस ने बसपा नेता अतुल राय को हिरासत में ले लिया। एसपी सिटी दिनेश सिंह ने इसकी पुष्टि की है।

अतुल राय पहड़िया स्थित कार्यालय में पार्टी की मंडल स्तरीय बैठक में भाग लेने के बाद गंतव्य के लिए चले ही थे, तभी क्राइम ब्रांच ने घेराबंदी करके उनके काफिले को रोका। फिर अतुल राय को गाड़ी में बैठाकर सारनाथ थाने ले जाया गया। सूचना पर बसपा के चीफ जोनल कोआर्डिनेटर डॉ. आरके कुरील सहित कई नेता पुलिस अधिकारियों के पास पहुंचे। उन्हें बताया गया कि वाराणसी के डाफी टोल प्लाजा के पास विगत दिनों हुई गोलीबारी की घटना के सिलसिले में अतुल राय को लाया गया है। पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया जाएगा।

अतुल राय की गिरफ्तारी पर बसपा के पूर्व सांसद अफजाल अंसारी ने कहा कि भाजपा सरकार राजनीतिक रंजिश के तहत विरोधी दलों के लोगों को प्रताड़ित कर रही है। डाफी टोल प्लाजा पर फायरिंग की घटना का हवाला देना बेमानी है। हाईकोर्ट ने चार्जशीट दाखिल होने तक अतुल राय की गिरफ्तारी पर रोक लगायी है। पुलिस ने उस मामले में निचली कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल नहीं किया है।

टोल प्लाजा के पास छह जुलाई की रात रोहनिया के बेटाबर गांव के ईंट भट्ठा मालिक सर्वेश तिवारी से विवाद में फायरिंग हुई थी। सर्वेश तिवारी ने अतुल के खिलाफ लंका थाने में एफआइआर दर्ज कराई थी। बाद में दोनो पक्षों में समझौता हो गया। इसी आधार पर अतुल राय अपनी गिरफ्तारी पर रोक के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट गए। वहां सर्वेश तिवारी ने भी अपना पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि उन पर फायरिंग करने वालों में अतुल राय नहीं थे।

हाईकोर्ट ने मामले में निचली कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करने तक अतुल राय की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी और सर्वेश तिवारी के कथन को घटना के विवेचक को उपलब्ध कराने का आदेश दिया था। अतुल राय बीते विधानसभा चुनाव में बसपा के टिकट पर गाजीपुर के जमानियां विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़े थे।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया