हवाला और आतंकवाद: भारत के ‘लादेन’ को हवाला के जरिए रकम मिली थी

Updated on: 14 November, 2019 07:47 AM



दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के हत्थे चढ़े आतंकी सुभान को आईएसआई के इशारे पर भारत में इंडियन मुजाहिद्दीन का नेटवर्क खड़ा करने में जुटे रियाज भटकल और इकबाल भटकल ने सऊदी अरब में प्रवास के दौरान हवाला जरिए फंडिंग की थी। भटकल बंधुओं ने इंडियन मुजाहिद्दीन (आईएम) का मोस्ट वांटेड आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी उर्फ तौकीर नेपाल और पश्चिमी यूपी में फैला नेटवर्क मुहैया कराया था। यह आतंकी नेटवर्क खड़ा करने के लिए बीते छह माह में आठ से दस लोगों को करीब आठ लाख रुपये मुहैया करा चुका है। आतंकी अब्दुल सुभान इंडियन मुजाहिद्दीन का नेटवर्क खड़ा करने के लिए स्लीपर सेल के साथ अपने गुर्गों को इसी साथी के जरिए रकम भेजता था। आईएम का नेटवर्क खड़ा करने के लिए वह पिछले करीब छह माह से लगा हुआ था।

चोरी की कार से दिल्ली आया था
मोस्ट वांटेड आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी उर्फ तौकीर नोएडा से चुराई गई कार से दिल्ली आया था। यह कार नोएडा के सेक्टर-58 थाना क्षेत्र से चुराई गई थी। आतंकी को कार उसके एक करीबी साथी ने मुहैया कराई थी। सुभान भारत में ओसामा बिन लादेन के नाम से कुख्यात है। यह खुलासा स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा ने किया। उन्होंने बताया कि अब तक की जांच में पता चला है कि यह कार वर्ष 2014 में चोरी की गई थी, जो आतंकी सुभान के एक साथी के पास  थी। आतंकी के आपराधिक पृष्ठभूमि वाले इस साथी ने कार का इस्तेमाल वारदातों को अंजाम देने में भी किया था। स्पेशल सेल के अधिकारी सुभान के साथी की तलाश में नोएडा, गाजियाबाद और मेरठ  सहित पश्चिमी उत्तर प्रदेश में करीब आठ जगहों पर छापेमारी कर चुके हैं। स्पेशल सेल के सूत्रों के मुताबिक, सुभान को चोरी की कार मुहैया कराने वाला यह साथी उससे मिलने नेपाल भी जाता था।

मेरठ के आसपास अपना ठिकाना बनाया था
करीब एक दशक तक फरार रहने के बाद भारत लौटे आईएम के आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी ने मेरठ के आसपास अपना ठिकाना बनाया था। शुरुआती पूछताछ में खुलासा हुआ है कि अब्दुल सुभान पिछले दस दिनों से उत्तर प्रदेश के अलग-अलग इलाकों में घूम रहा था। इस दौरान उसने अपने आठ पुराने साथियों से भी संपर्क किया। उसने अपना ठिकाना मेरठ के समीप अपने एक खास साथी के यहां बना रखा था। पुलिस सुभान के इन नौ साथियों की तलाश में छापेमारी कर रही है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया