रूहानी को राष्ट्रपति भवन में दिया गया 'गार्ड ऑफ ऑनर',कई समझौतों की उम्मीद, 5 खास बातें

Updated on: 18 November, 2019 05:13 AM

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी तीन दिवसीय भारत दौरे के अंतिम दिन आज नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ दिवपक्षीय बातचीत करेंगे। राष्ट्रपति रुहानी को राष्ट्रपति भवन में राजकीय सम्मान के साथ स्वागत किया गया। उसके बाद वे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम मोदी से राष्ट्रपति भवन में मिले।राष्ट्रपति रूहानी का यह दौरा इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के भारत दौरे के करीब एक महीने के बाद हुआ है जिसे भारत की ओर से साथ संतुलन बनाने की तरफ देखा जा रहा है। आइये जानते हैं हसन रूहानी के भारत दौरे की खास बातें-

1-नई दिल्ली में आज राष्ट्रपति हसन रूहानी के साथ औपचारिक बातचीत शुरू होगी।

2-भारत और ईरान यह उम्मीद कर रहा है कि पीएम मोदी और राष्ट्रपति रूहानी के बीच बैठक के दौरान कई अहम समझौतों पर मुहर लगेगी। इसके साथ ही, चाबहार बंदरगाह को लेकर कार्य में प्रगति जिसे ईरान यह मानता है कि अन्य देशों पर अमेरिकी दबाव में के चलते यह फंस गया हुआ है और ईरान पर ताज़ा प्रतिबंध पर चर्चा होगी।

3-भारत पहले ही 1.1 मिलियन टन गेंहू चाबहार बंदरगाह के जरिए अफगानिस्तान भेज चुका है। 85 मिलियन डॉलर का यह प्रोजेक्ट पाकिस्तान में चीन द्वारा बनाए गए ग्वादर बंदरगाह से महज 90 किलोमीटर दूर है। भारत के लिए चाबहरा बंदरगाह खास महत्व इसलिए रखता है क्योंकि पाकिस्तान को अलग करते हुए भारत-ईरान और अफगानिस्तान के बीच एक रास्ता देता है।

4-तेल और गैस सहयोग बातचीत में एक और मुद्दा होगा। भारत गैस और तेज का ईरान से आयात करता है लेकिन दक्षिण ईरान के फरज़ाद-बी गैस एंड ऑयल फील्ड्स को लेकर डील पेंडिंग है जिस पर भारत ने अपनी इच्छा जताई है।

5-राष्ट्रपति रूहानी ने हैदराबाद में कहा- ईरान के बाद प्रचूर मात्रा में गैस और तेल का भंडार है और वह भारत की प्रगति और यहां के लोगों की संपन्नता के लिए उसके साथ साझा करना चाहता है। रूहानी के साथ 21 सदस्यीय मंत्रियों और व्यवसायियों का प्रतिनिधिमंडल ईरान से यहां पर आया है और वे कई अहम समझौतों पर मुहर लगते देखना चाहते हैं।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया