UGC की सौगात: JNU, BHU सहित 60 शिक्षण संस्थानों को स्वायत्तता

Updated on: 21 September, 2019 06:53 AM

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी)ने देश के 60 उच्च शिक्षा संस्थानों को दो श्रेणियों में स्वायत्तता प्रदान कर दी है। इनमें पांच केंद्रीय विश्वविद्यालय, 21 राज्य विश्वविद्यालय, 24 डीम्ड विश्वविद्यालय, दो निजी विश्वविद्यालय और ऑठ कॉलेज शामिल हैं। केंद्रीय मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मंगलवार को इसकी घोषणा की। 

जावड़ेकर ने कहा, भारतीय प्रबंधन संस्थानों (आइआइएम) को कानून बनाकर पूर्ण स्वायत्तता देने के बाद अब उन उच्च शिक्षा संस्थानों को स्वायत्तता दी गई है, जिन्हें राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) ने 3.26 से अधिक ग्रेड दी है। इनमें केंद्रीय विश्वविद्यालय में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू), अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू), काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू), हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय और द इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेजेस यूनिवर्सिटी, तेलंगाना शामिल हैं। वहीं, गुणवत्ता पर खरा नहीं उतरने वाले तीन डीम्ड विश्वविद्यालयों को यूजीसी ने कारण बताओ नोटिस भी जारी किया है।

स्वायत्तता के मायने
- ये संस्थान बिना यूजीसी की अनुमति के नए पाठ्यक्रम शुरू कर सकेंगे। नए विभाग भी बिना यूजीसी की अनुमति के शुरू कर पाएंगे।
- ये विश्वविद्यालय ऑफ  कैंपस भी शुरू करने के लिए स्वतंत्र होंगे। इन्हें कौशल विकास के लिए भी पाठ्यक्रम शुरू करने की इजाजत रहेगी।
- ये संस्थान विदेशी शिक्षकों को अपने यहां नियुक्त कर सकते हैं। अपनी मर्जी से कुछ शिक्षकों को अधिक वेतन भी दे सकेंगे। विदेशी छात्रों को प्रवेश दे सकते हैं।
- ये संस्थान दुनिया के किसी भी विश्वविद्यालय के साथ समझौता कर सकेंगे। साथ ही दूरस्थ शिक्षा भी शुरू कर सकेंगे।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया