पिछले कुछ समय से सुशील मोदी-नीतीश ने अच्छा काम किया-पीएम

Updated on: 20 July, 2019 03:03 AM

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार के मोतिहारी में सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह को संबोधित करते हुए कहा कि सौ साल पुराना इतिहास आज एक बार फिर से दोहरा रहा है। उन्होंने कहा कि स्वच्छाग्रह करोड़ों लोगों के जीवन को एक नई दिशा दे रहे हैं।

जयप्रकाश नारायण ने इसी धरती से खड़ा होकर देश के लोकतंत्र को बचाया था। स्वच्छता पीएम बिहार की पीएम मोदी ने की तारीफ। उन्होंने कहा कि बिहार में एक हफ्ते में आठ लाख शौचालय बने। बिहार में स्वच्छता का दायरा तेजी से बढ़ रहा है। देश में बिहार इकलौता ऐसा राज्य था जहां पर पचास फीसदी से भी कम स्वच्छता था। पीएम ने कहा कि जब देश गुलाम था तो बिहार ने गांधी जी को महात्मा और बापू बनाया।

स्वच्छता के मामले में बिहार का काम सराहनीय

स्वच्छता अभियान में बिहार का काम सराहनीय है। पिछले कुछ वक्त में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने अच्छा काम किया है। उन्होंने स्वच्छता अभियान से जुड़े अधिकारी परमेश्वर अय्यर की तारीफ की। पीएम ने कहा कि परमेश्वर अय्यर अमेरिका ने नौकरी छोड़कर देश में वापस काम करने के लिए आए थे।

मोतिहारी पहुंचने के बाद पीएम ने सबसे पहले महात्मा गांधी की प्रतिमा पर फूल चढ़ाए। इस मौके पर प्रधानमंत्री आठ योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया। इनमें केंद्र के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रलय की लगभग 1186 करोड़ की दो बड़ी योजनाएं भी शामिल हैं। इनमें पटना की मेगा सीवरेज योजना है, जिसमें सैदपुर सीवरेज नेटवर्क, पहाड़ी एसटीपी, पहाड़ी सीवरेज सिस्टम और पहाड़ी सीवरेज स्कीम है। इस मंत्रलय से मोतिहारी में मोतीझील का सौंदर्यीकरण व संरक्षण योजना को भी कार्यान्वित किया जाना है।

इस पर लगभग 22 करोड़ रुपये खर्च किये जाने हैं। इसके अलावा रेल मंत्रलय की भी दो योजनाएं हैं, जिनमें चंपारण हमसफर ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर वे रवाना करेंगे। यह ट्रेन कटिहार से दिल्ली के लिए हफ्ते में दो बार चलेगी। दूसरी योजना मुजफ्फरपुर से सुगौली और सुगौली से वाल्मीकिनगर तक ट्रैक का दोहरीकरण का शिलान्यास है।

इसके अलावा मोतिहारी से नेपाल के अमलेशगंज तक ऑयल पाइपलाइन प्रोजेक्ट, मोतिहारी में लगने वाले पेट्रोलियम ऑयल ल्यूब और एलपीजी टर्मिनल के साथ ही सुगौली में हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन द्वारा लगाये जाने वाले न्यू एलपीजी प्लांट का शिलान्यास है।
लोको फैक्ट्री का उद्घाटन

देश का पहला विद्युत रेल इंजन कारखाना आज राष्ट्र को समर्पित किया जाएगा। जिलेवासियों को उस पल का इंतजार है जब प्रधानमंत्री मधेपुरा विद्युत रेल इंजन फैक्ट्री का लोकार्पण करेंगे। माना जा रहा है कि इस फैक्ट्री के चालू होने से कोसी के इलाके में औद्योगिक विकास की रफ्तार तेज होगी।

दस साल के लंबे इंतजार के बाद विद्युत रेल इंजन कारखाना शुरू होने जा रहा है। जमीन अधिग्रहण को लेकर लगातार उत्पन्न विवादों के बाद भी कारखाना निर्माण में बाधा उत्पन्न नहीं होने देने में जिला प्रशासन की भूमिका महत्वपूर्ण मानी जा रही है। मधेपुरा के श्रीपुर चकला में बने इस कारखाने में पांच लोकोमोटिव इंजन साल 2019 में, 35 इंजन 2020 में और 60 लोकोमोटिव इंजन साल 2021 में बनाये जाएंगे। इसके बाद 800 लोकोमोटिव्स का लक्ष्य पूरा होने तक हर साल 100 लोकोमोटिव इंजन का निर्माण कारखाने में किया जाएगा।

26 हजार करोड़ की इस महत्वपूर्ण परियोजना के तहत 12 हजार हॉर्स पावर वाले लोकोमोटिव इंजन का निर्माण होगा। इस कारखाने से निकलने वाले इंजन 9000 टन वजनी मालगाड़ी को लेकर चलने की क्षमता वाले होंगे। वित्तीय वर्ष 2007-08 में तत्कालीन रेलमंत्री लालू प्रसाद ने मधेपुरा में विद्युत रेल इंजन कारखाना लगाने की घोषणा की थी।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया