कैराना के उप-चुनाव में विपक्षी प्रचार से क्यों दूर है अखिलेश यादव

Updated on: 12 December, 2019 12:27 AM

ऐसा लगता है कि उत्तर प्रदेश के कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा सीट पर होनेवाले उप-चुनाव में सत्ताधारी बीजेपी और विपक्षी दलों की तरफ से एक दूसरे को पछाड़ने के लिए सुनियोजित तरीके जा रहे हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले उप-चुनाव को बीजेपी और विपक्षी एकता के लिए बेहद अहम माना जा रहा है। उप-चुनाव 28 मई को होना है और इसके लिए चुनाव प्रचार शनिवार को खत्म हो रहा है।
 

कैराना में राष्ट्रीय लोकदल के टिकट पर संयुक्त विपक्ष की तरफ से उतारे गए उम्मीदवार तबस्सुम के लिए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव चुनाव प्रचार नहीं करेंगे। कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों के बड़े नेता भी इस चुनावी मैदान में उतरकर तबस्सुम के लिए वोट नहीं मांगेंगे।
समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बताया- “हां, एसपी चीफ अखिलेश यादव कैराना लोकसभा और नूरपुर विधानसभा सीट पर उप-चुनाव के लिए प्रचार नहीं करेंगे। लोगों उनकी कार्यशैली जानते हैं और उन्होंने जनता से यह अपील की है कि विपक्षी उम्मीदवारों को ही वोट दें।”
 
ऐसे में विपक्षी एकतार पर सवाल उठ रहा है क्योंकि आरएलडी चीफ अजीत सिंह और उनके बेटे जयंत चौधरी ही संयुक्त विपक्षी अभियान की अगुवाई कर रहे हैं। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) अध्यक्ष मायावती इस नीति पर फंसी हुई है कि वह उप-चुनाव का प्रचार नहीं करेंगी।

ऐसे में वो क्या चीज है जिसके चलते अखिलेश यादव चुनाव प्रचार से दूर हैं? यह दूसरा रणनीतिक कदम है क्योंकि पहले फैसला किया जा रहा था कि एसपी नेता को कैराना में आरएलडी सीट पर उतारा जाए।

बीजेपी वोट के लिए मुजफ्फरनगर दंगे पर ध्यान फोकस करना चाहती है। बीजेपी की तरफ से चुनाव प्रचार की अगुवाई कर रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने तबस्सुम को समाजवादी पार्टी से जोड़कर उस पर निशाना साधा है और मुजफ्फरनगर दंगे के लिए सपा को कसूरवार ठहराया है।
   
ऐसे में अखिलेश यादव के दौरे मुजफ्फरनगर दंगा एक बार फिर से बड़ा मुद्दा इस चुनाव में बन सकता है। एक सपा नेता ने बताया कि आरएलडी उम्मीदवार एसपी की नेता रही हैं और ऐसे में किसी तरह के मतभेद का सवाल ही नहीं उठता है। उन्होंने आगे बताया कि एसपी ने यह फैसला किया है कि वह अपने किसी भी आजम खान जैसे बड़े नेता को इस क्षेत्र में चुनाव प्रचार के लिए नहीं भेजेगी।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया