ट्रंप-किम की सिंगापुर मुलाकात के दौरान क्यों रहेगी दुनिया की नज़र, जाने बड़ी बातें

Updated on: 25 August, 2019 12:06 AM

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के बीच जब मंगलवार को सिंगापुर में ऐतिहासिक वार्ता होगी उस वक्त इस पर पूरी दुनिया की ख़ास नज़र बनी रहेगी। यह बैठक उन दो दुश्मन देशों के बीच शांति ला सकती है जो पिछले करीब 68 सालों से तकनीकी तौर पर युद्ध के मुहाने पर खड़े हैं। 

ट्रंप ने कहा लोग यह जान पाएंगे की वार्ता कैसी कसी रही और उसमें क्या हुआ। हालांकि, इस पर यकीन करना बेहद कठिन है जो कैसे एक दूसरे के खिलाप आग उगलनेवाले दोनों नेता बीतचीत को लेकर इतनी करीब सिर्फ नौ महीने के अंदर पहुंच गए।

ट्रंप ने उत्तर कोरिया के तानाशाह को संयुक्त राष्ट्र महासभा के अपने भाषण में ‘लिटल रॉकेट मेन’ करार दिया था। उस वक्त किम ने ट्रंप को ‘मानसिक रूप से बीमार’ व्यक्ति बताया था। दोनों ही एक दूसरे को परमाणु युद्ध तक की धमकी दे रहे थे।
 
आइये जानते हैं ट्रंप-किम की सिंगापुर वार्ता को लेकर क्या विश्लेषण, टिप्णी और ब्रेकिंग न्यूज़ है-
 
क्या है पूर्व निर्धारित
किम रविवार को दोपहर बाद सिंगापुर पहुंचे और डोनाल्ड ट्रंप क्यूबेक में जी-7 शिख सम्मेलन में शामिल होने के बाद वहां पर शाम को पहुंचे। दोनों के बीच पहली बैठक मंगलवार को स्थानीय समयानुसार 9 बजे सुबह (भारत के समय के मुताबिक सुबह साढ़े छह बजे) सिंगापुर के फाइव स्टार रिजॉर्ट के कपेला होटल में होगी। वाशिंगटन में ट्रंप ने बताया कि बैठक एक, दो या यहां तक की तीन दिन भी हो सकती है। 

कैसे दोनों नेता इस वार्ता मेज तक पहुंचे
किम जोंग उन ने पिछले साल इस बात की घोषणा की कि उसने अमेरिका मारक क्षमता वाले परमाणु हथियार बना लिए हैं।  हालांकि, उसके फौरन बाद उसने विंटर ओलंपिक्स में साउथ कोरिया की भागीदारी पर बात की। इस कदम के बाद अमेरिका की तरफ से सैन्य हमले का खतरा टल गया।
 

मार्च में, ट्रंप ने दुनिया को उस वक्त हैरान करके रख दिया जब वह साउथ कोरियाई नेताओं ने के इस आश्वासन पर कि नॉर्थ कोरिया अपने मिसाइल और परमाणु बमों का परीक्षण बंद कर देगा और परमाणु निरस्त्रीकरण के तरफ आगे बढ़ेगा, ट्रंप ने किम जोंग उन के साथ मुलाकात पर हामी भरी।
 
10 मई को ट्रंप ने इस बात की घोषणा की थी कि वे किम के साथ 12 जून को सिंगापुर में मुलाकात करेंग। हालांकि, दो हफ्ते बाद ही उन्होंने किम को पत्र लिखते हुए बैठक को कैंसिल कर दिया। बाद में व्हाइट हाउस में सीनियर नॉर्थ कोरियाई नेताओं की सलाह पर ट्रंप ने कहा कि 1 जून को बताया कि पहले से निर्धारित समय पर ही ये बैठक होगी।  

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया