मानसून सत्र लाइव : भीड़ हिंसा पर बोले राजनाथ- जरूरत पड़ी तो बनाएंगे कानून

Updated on: 13 November, 2019 01:55 PM

लोकसभा में भीड़ हिंसा पर विपक्षी दलों की तरफ से किए जा रहे हंगामे बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सरकार की तरफ से उठाए जा रहे कदमों की जानकारी दी। राजनाथ सिंह ने कहा कि हमने इस मुद्दे पर उच्चस्तरीय कमेटी बनाई है और प्रभावी कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि इस मामले में अगर जरूरत पड़ी तो कानून बनाने से भी पीछे नहीं हटेंगे।

गृहमंत्री ने कहा कि ऐसा नहीं है कि यह हाल ही में शुरू हुआ है। यह घटना वर्षों से होती चली आ रही है। उन्होंने कहा कि ऐसा मैने पहले भी कहा कि सबसे बड़ी मॉब लिंचिंग की घटना साल 1984 में हुई थी।

स्वीस बैंक में काला धन कम हुआ

उधर, वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि स्वीस बैंक में जमा भारतीयों के धनों में कमी आई है। उन्होंने कहा कि स्वीस बैंक में करीब 34 फीसदी काले धन में कमी आई है।

इससे पहले, बिहार के मुजफ्फरपुर में एक शेल्टर होम में  बलात्कार की घटना को लेकर कांग्रेस सांसद रणजीत रंजन और राष्ट्रीय जनता दल के सांसद जेपी यादव ने कार्यस्थगन प्रस्ताव दिया है। जबकि, आरजेडी के सांसद मनोज झा ने राज्यसभा में मुजफ्फरपुर घटना को लेकर शून्यकाल का नोटिस दिया है।

उधर, पश्चिम बंगाल और त्रिपुरा में हिंसा और उसको लेकर बनी स्थिति को देखते हुए सीपीएम सांसद मोहम्मद सलीम ने शून्य काल को नोटिस दिया है।
 

उधर, भीड़ की हिंसा में लोगों को पीट-पीटकर मारने की आ रही घटनाओं खिलाफ तृणमूल कांग्रेस के सांसदों ने संसद भवन परिसर के अंदर गांधी प्रतिमा के पास अपना विरोध प्रदर्शन किया। जबकि, तेलुगू देशम पार्टी के सांसदों ने आंध्र प्रदेश को विशेष राज्या का दर्जा देने की मांग को लेकर संसद भवन परिसद में गांधी प्रतिमा के पास प्रदर्शन किया।

सत्र का चौथा दिन रहा हंगामेदार
सत्र के चौथे दिन राज्यंसभा और लोकसभा में हंगामा होता रहा। आज सदन में राफेल विमान सौदा और आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने के मुद्दों पर विपक्ष हंगामा कर सकता है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया