भीमा कोरेगांव कांडः 2012 में 128 संगठनों का माओवादियों से था संपर्क

Updated on: 17 July, 2019 12:38 AM
यूपीए सरकार के दौरान 2012 में कुल 128 ऐसे संगठनों की पहचान हुई थी जिनके माओवादी संगठनों से संबंध पाए गए थे। सूत्रों का कहना है कि महाराष्ट्र पुलिस द्वारा हाल में गिरफ्तार किए गए लोग इन्ही संगठनों सदस्य है। जिन वामपंथी विचारों के नेताओं पर नक्सल संपर्क होने के संदेह पर कार्रवाई की गई है वे उन्ही संगठनों के सदस्य रहे हैं जिनकी सूची यूपीए सरकार द्वारा 2012 में बनाया गया था। साल 2012 में यूपीए सरकार ने सभी राज्यों को लिखा था कि जो लोग भी इन संदिग्ध 128 संगठनों के सदस्य हैं उनपर कार्रवाई की जाए। सूत्रों के मुताबिक गिरफ्तार किए गए कार्यकर्ताओं की सीपीआई (माओवादी) से रिश्ते की भी पड़ताल हो रही है। ऐसा माना जा रहा है कि शहरों में सक्रिय कुछ लोग सीपीआई (माओवादी) को संसाधन उपलब्ध कराते हैं। पहले भी हुई गिरफ्तारी -6 जून का महाराष्ट्र पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया था। -7 लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनका संबंध संदिग्ध 128 संगठनों से बताया जा रहा है। -2007 में भी अरुण फरेरा और वेरनॉन गोंजाल्विस की गिरफ्तारी हो चुकी है। -03 बार पहले भी हो चुकी है तेलंगाना में वरवर राव की। माओवादियों ने ऐसे बरपाया कहर 6056 नागरिकों की हत्या कर चुकी है सीपीआई (माओवादी ) 2001 से अब तक 2516 सुरक्षाकर्मियों की हत्या कर चुकी है सीपीआई (माओवादी) अब तक
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया