रातों-रात हुआ सर्जिकल स्ट्राइक, किसी को नहीं लगी खबर: प्रधानमंत्री मोदी

Updated on: 12 November, 2019 10:16 AM
बूथ कार्यकर्ताओं से नमो एप पर गुरूवार की सुबह संवाद करते हुए पीएम मोदी ने सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि रातों-रात किसी को खबर नहीं लगती है और सेना के जवान सर्जिकल स्ट्राइक करके वापस देश की सीमा में आ जाते हैं, यह भारत के इतिहास का एक गौरवमयी क्षण है। प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक हमारी सेना के साहस और सामर्थ्य का प्रतीक है। सर्जिकल स्ट्राइक, हमारी सेना के युद्ध कौशल को तो दिखाता ही है, साथ ही हमें गौरव करने का एक महत्वपूर्ण अवसर भी देता है। जड़ें जितनी मजबूत, पेड़ उतना ही फलदाई प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 'मेरा बूथ सबसे मजबूत' कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गाजियाबाद, नवाजा, हजारीबाग, जयपुर देहात और अरूणाचल प्रदेश (वेस्ट) के बूथ कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद किया। पीएम ने कहा कि जड़ जितनी मजबूत होती है पेड़ उतना ही फलदाई और ताकतवर होता है'। उन्होंने आगे कहा कि मेरे लिए यह सौभाग्य का विषय है कि आज भारतीय जनता पार्टी की जड़ को सींचकर उसे एक घने वृक्ष रुपी पार्टी बनाने वाले ऐसे अनेक कार्यकताओं से बात करने का मौका मिला है। उज्ज्वला योजना के तहत 5 करोड़ से ज्यादा कनेक्शन पीएम मोदी ने कहा कि हमारे कार्यकताओं की मेहनत, सामर्थ्य, पुरुषार्थ और संकल्प के कारण ही आज हमें इस मुकाम पर पहुंचे है। उन्होंने कहा कि देश के नए बन रहे आधुनिक एक्सप्रेस-वे, साफ-स्वच्छ रेलवे स्टेशनों और अनेक शहरों में बन रही मेट्रो में कोई जाति या पंथ पूछकर एंट्री नहीं होगी। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि मुद्रा योजना के तहत 13 करोड़ से अधिक लोन पाने वाले भाई-बहन हर जाति, पंथ और संप्रदाय से हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने उज्ज्वला योजना का जिक्र करते हुए कहा कि इस योजना के तहत जो 5 करोड़ से अधिक गरीब बहनों को मुफ्त गैस कनेक्शन मिला है तो उसमें सरिता भी है, सबीना भी और कोई सोफिया भी। भाजपा में नाम से नहीं, नेतृत्व से तय होता है बूथ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पदभार ये व्यवस्था है, कार्यभार ये जिम्मेदारी है। पदभार बदल सकता है लेकिन मां भारती को समर्पित हम कार्यकताओं को कार्यभार से कभी मुक्ति नहीं मिल सकती है। उन्होंने कहा कि भाजपा में नाम से नहीं काम से नेतृत्व तय होता है। बूथ स्तर के कार्यकर्ता को संगठन के शीर्ष के नेतृत्व की जिम्मेदारी को सौंपने का काम सिर्फ भाजपा ही कर सकती है, चाहे वो पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हो या अलग अलग राज्यों में हमारे मुख्यमंत्री हो।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया