ब्रिटेनः भारतवंशी परिवार के घर में लगाई आग, बाल-बाल बचे परिवार के सदस्य

Updated on: 25 August, 2019 08:48 AM
ब्रिटेन में भारतीय मूल के एक परिवार के घर में किसी ने आग लगा दी। हालांकि अचानक किए गए इस हमले में परिवार के चारों सदस्य बाल-बाल बचे। पुलिस इस वारदात को घृणा अपराध मानते हुए जांच कर रही है। मयूर कार्लेकर के दक्षिण पूर्वी लंदन के बोर्कवुड पार्क इलाके में स्थित घर में शनिवार रात किसी ने उस समय आग लगा दी, जब वह अपनी पत्नी रितु और अपने दोनों बच्चों के साथ गहरी नींद में सोए थे। पड़ोसियों ने घर के बाहर भयानक आग देखने के बाद कार्लेकर और उनके परिवार को जगाया और दमकल को सूचित किया। मेट्रोपोलिटन पुलिस के प्रवक्ता ने बुधवार को कहा, मेट्रोपोलिटन पुलिस इस वारदात को घृणा अपराध मानते हुए जांच कर रही है। यह आगजनी और आपराधिक क्षति पहुंचाने का मामला है। इस मामले में फिलहाल कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। इलाके की सीसीटीवी फुटेज में चार से पांच युवक कार्लेकर परिवार के घर के बाहर बाड़े में आग लगाने की कोशिश करते नजर आ रहे हैं। कार्लेकर ने कहा, हम सभी सोए हुए थे। हम किस्मत वाले हैं कि पड़ोसियों ने हमें समय पर जगाया। हमें खुशी है कि आग समय पर बुझा दी गई। लेकिन इस वारदात के कारण हमारे घर, समाज और पास-पड़ोस को अप्रत्याशित नुकसान पहुंचाया गया है। हमने किसी को भी कोई तकलीफ नहीं दी है। हमने हमेशा दूसरों की मदद की है। उन्होंने सोशल मीडिया पर लोगों से अपील की कि वे इस आगजनी के संदिग्धों को न्याय के कठघरे तक पहुंचाने के लिए यथासंभव सूचनाएं साझा करें। ब्रिटिश पुलिस इस वारदात को घृणा अपराध मानकर जांच कर रही है। गौरतलब है कि ब्रिटेन में 2016 में ब्रेक्जिट (ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने का मुद्दा) पर जनमत संग्रह के तुरंत बाद से घृणा अपराध की घटनाओं में इजाफा देखा गया है। वर्ष 2016-17 में ऐसे 80,593 अपराध दर्ज किए गए थे, जबकि 2015-16 में ऐसे अपराधों की तादाद 62,518 थी। कार्लेकर डिजिटल परामर्शदाता हैं। वह 1990 के दशक में मुंबई से यहां आ गए थे। वह मूलत: महाराष्ट्र के ठाणे जिले के डोंबिवली के रहने वाले हैं।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया