BHU : बवाल के चलते बीएचयू 28 तक बंद, खाली होंगे पांच हॉस्टल

Updated on: 25 August, 2019 01:17 PM
बीएचयू कैंपस में सोमवार रात हुए बवाल के बाद कुलपति प्रो. राकेश भटनागर ने पांच हॉस्टलों को खाली कराने का आदेश दिया है। बीएचयू प्रशासन ने बिड़ला, धनवंतरि, लालबहादुर शास्त्री, रुइया एनेक्सी एवं रुइया मेडिकल ब्लाक के छात्रों को 24 घंटे में हॉस्टल खाली करने को कहा है। 24 घंटे के बाद पुलिस प्रशासन हास्टल खाली कराएगा। वहीं कुलसचिव ने 28 सितम्बर तक सभी संकायों में पठन-पाठन स्थगित करने की घोषणा की है। यह निर्णय सोमवार को सर सुंदरलाल अस्पताल में विवाद के बाद छात्र गुटों में हुई झड़प और देर रात उपद्रव के बाद परिसर में शांति बनाए रखने के लिए मंगलवार को एलडी गेस्ट हाउस में बीएचयू प्रशासन व जिला प्रशासन के उच्चाधिकारियों की बैठक में लिया गया। बैठक में कुलपति प्रो. राकेश भटनागर, डीएम सुरेन्द्र सिंह, एसएसपी आनन्द कुलकर्णी के अलावा बीएचयू के कुलसचिव, चीफ प्राक्टर समेत अन्य प्रशासनिक अधिकारी थे। हॉस्टलों पर नोटिस चस्पा विश्वविद्यालय के कुलसचिव शिक्षण की ओर से हॉस्टल खाली करने संबंधी नोटिस सभी पांचों हास्टलों पर चस्पा कर दी गई है। संबंधित वार्डेन को भी हॉस्टल खाली संबंधी आदेश का सख्ती से पालन कराने का निर्देश दिया गया है। अफसरों ने किया फ्लैग मार्च मंगलवार की सुबह बीएचयू में शांति बनाए रखने के लिए कमिश्नर दीपक अग्रवाल, आईजी विजय सिंह मीना, डीएम सुरेन्द्र सिंह, एसएसपी आनंद कुलकर्णी, एसपी सिटी दिनेश सिंह, एडीएम सिटी विनय कुमार ने फ्लैगमार्च किया। उन्होंने छात्रों से शांति बनाए रखने की अपील की। मेडिकल के छात्र छोड़ने लगे हास्टल आदेश के बाद मेडिकल के छात्रों ने हॉस्टल खाली करना शुरू कर दिया है लेकिन बिड़ला व लालबहादुर शास्री हॉस्टल के छात्र विरोध कर रहे हैं। जिला प्रशासन का कहना है कि 24 घंटे के बाद पुलिस की मदद से हॉस्टल खाली कराए जाएंगे। वहीं छात्रों का कहना है कि बीएचयू में कुछ ऐसे लोग हैं जो अपनी प्रासंगिकता बनाए रखने के लिए छात्र गुटों को एक-दूसरे के सामने कर माहौल बिगाड़ रहे हैं। जिसका खामियाजा सभी को भुगतना पड़ रहा है। आदेश के विरोध में धरने पर बैठे छात्र पांच हॉस्टलों को 24 घंटे में खाली कराने के आदेश के विरोध में बिड़ला एवं लालबहादुर शास्त्री हॉस्टलों के छात्रों ने प्रदर्शन किया और धरने पर बैठ गए। छात्रों का कहना था कि जो दोषी हैं, उन पर कार्रवाई हो। हॉस्टल खाली होने से निर्दोष छात्रों का भी पठन-पाठन बाधित होगा। छात्रों ने बीएचयू एवं जिला प्रशासन के निर्णय पर रोष जताया और कहा कि किसी भी कीमत पर हास्टल खाली नहीं करेंगे। देर शाम तक धरना जारी था। मौके पर फोर्स तैनात थी। कैंपस के अराजक माहौल को शांत कराने के लिए कुलपति व जिला प्रशासन ने हॉस्टल खाली कराने का निर्णय लिया है जिसका सख्ती से पालन किया जाएगा। प्रो. रोयाना सिंह, चीफ प्रॉक्टर, बीएचयू
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया