9 कॉल्स और कई व्हाट्सएप मैसेज के बाद CBI अधिकारी राकेश अस्थाना पर केस

Updated on: 18 July, 2019 08:51 AM
सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को कथित घूस देने के आरोप में बिचौलिए मनोज प्रसाद की गिरफ्तारी को लेकर सीबीआई ने दावा किया है कि उसकी गिरफ्तारी किए जाने के बाद हुए नौ फोन कॉल्स का विश्लेषण किया जा रहा है। अधिकारी ने बताया कि कथित बिचौलिए के भाई को इस बात की भनक लग गई थी और डर का माहौल बन गया था। अधिकारी ने बताया कि व्यवसायी सतीश साना की तरफ से यह दावा किए जाने के बाद उसे लगातार समन से छूट और केस से क्लीन चिट देने के लिए दुबई के इन्वेस्टमेंट बैंकर के जरिए पांच करोड़ रूपये देने को कहा गया था। इसके आधार पर जांच एजेंसी ने अस्थाना के खिलाफ केस दर्ज किया। हैरानी की बात ये है कि सीबीआई के सेकेंड इन कमांड अस्थाना ने करीब दो महीने पहले कैबिनेट सचिव को यह बताया था कि साना ने केस से राहत पाने के लिए सीबीआई चीफ आलोक वर्मा को 2 करोड़ रूपये घूस दी है। हालांकि, एजेंसी ने रविवार को यह दावा किया कि साना मजिस्ट्रेट के सामने पेश होकर यह बताया कि उसने दिसंबर 2017 से लेकर अक्टूबर 2018 के बीच एक बिचौलिए को पैसे दिए थे। जिसका उद्देश्य उसके अस्थाना से कनेक्शन के चलते राहत पाना था। दावे के आधार पर एजेंसी ने दुबई से वापस घूस के इंस्टॉलमेट के पैसे लेकर आ रहे मनोज प्रसाद को 16 अक्टूबर को गिरफ्तार किया।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया