आतंकी खतरों के लिए सीरिया के मुकाबले तीन गुणा ज्यादा जिम्मेदार है पाकिस्तान

Updated on: 08 December, 2019 09:31 AM
वैश्विक आतंकवाद को पैदा करने और उसका समर्थन देने में सीरिया के मुकाबले तीन गुणा ज्यादा पाकिस्तान जिम्मेदार है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी एंड स्ट्रेटजिक फॉरसाइट ग्रुप (एसएफजी) की स्टडी- ‘ह्यूमेनिटी एट रिस्क- ग्लोबल टेरर थ्रेट इंडिकेंट’ (जीटीटीआई) में यह बात सामने आई है। दुनियाभर के आतंकी देशों की सूची में टॉप पर पाकिस्तान जीटीटीआई के मुताबिक, भविष्य में अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के लिए अफगान तालिबान और लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) को बड़ा खतरा बताया गया है। जबकि, इस सूची में पाकिस्तान को सबसे टॉप पर रखा गया है जहां पर सबसे ज्यादा आतंकी ठिकाने और उनके सुरक्षित पनाहगाह हैं। अफगानिस्तान के आतंकी संगठनों को पाक की मदद रिपोर्ट में कहा गया है- “अगर हम हार्ड फैक्ट्स और स्टेटिसटिक्स (Statistics) के आधार सबसे खतरनाक संगठनों की बात करते हैं तो सबसे ज्यादा मदद या इसके पनाहगाह ठिकाने पाकिस्तान है। इसके साथ ही, अफगानिस्तान में ऐसे आतंकी संगठनों की काफी बड़ी तादाद है जिन्हें पाकिस्तान से समर्थन मिल रहा है।” अगले दशक की चुनौतियों और भविष्य को देखते हुए विश्लेषणात्मक रूपरेख तैयार कर उसे लागू करने के लिए 80 पेज की रिपोर्ट में तैयार की गई है। रिपोर्ट में कहा गया- सभी तरह के कट्टरवाद के पैदा होने, जनसंहार के हथियारों के गलत इस्तेमाल और आर्थिक बाधा 2030 तक मानव विकास में सबसे बड़ी बाधा है। ये सभी आतंकवाद से जुड़े हुए है। अलकायदा बना रहा खतरनाक संगठन स्ट्रेटजिक फॉरसाइट ग्रुप ने अपने विश्लेषण में यह पाया कि 21वीं सदी के पहले आधे दशक तक करीब 200 संगठन आतंकी वारदातों को अंजाम देने में शामिल रहे। इस दौरान, इन संगठनों में से इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड द लीवेंट (आईएसआईएल) ने आखिर के पांच वर्षों के दौरान सबसे ज्यादा मीडिया में अपनी जगह बनाई है। लेकिन, आईएसआईएल के सबसे ज्यादा तेजी के साथ उभार और उसकी गिरावट के बावजूद अल-कायदा का नेटवर्क खतरनाक बना रहा। 2011 तक इसे ओसामा बिन लादेन के नेतृत्व में चलाया गया और अब उसके बेटे हमजा बिन लादेन के नेतृत्व में फिर से उभार हुआ है। इसे मीडिया के कुछ हिस्सों में “नया आतंक का नया बादशाह” बताया जा रहा है।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया