महाराष्ट्र: जमीन अधिकार के लिए सड़कों पर उतरे किसान, आजाद मैदान की तरफ कर रहे हैं मार्च

Updated on: 17 September, 2019 09:05 PM
सूखे के लिए मुआवजे और आदिवासियों को वन्य अधिकार सौंपे जाने की मांग को लेकर हजारों किसान एवं आदिवासियों ने आज मुंबई के आजाद मैदान की तरफ बढ़ रहे हैं। आपको बता दें कि किसानों ने बुधवार को ठाणे से मुंबई तक दो दिवसीय मार्च शुरू किया था और आठ महीने पहले किसानों ने नासिक से ऐसा ही मार्च शुरू किया था। मैगसेसे पुरस्कार से सम्मानित एवं भारत के जल पुरुष के नाम से मशहूर डॉ. राजेन्द्र सिंह भी मार्च करने वालों में शामिल हैं। किसानों ने बुधवार दोपहर से पैदल यात्रा शुरू की और गुरुवार सुबह लोक संघर्ष के बैनर तले ये किसान दादर पहुंच गए। इसके बाद वह मुंबई के आजाद मैदान की तरफ बढ़ रहे हैं। मार्च में शामिल एक नेता ने बताया कि गुरुवार सुबह वे दक्षिण मुंबई में आजाद मैदान पहुंचेंगे और फिर वे विधानभवन के पास प्रदर्शन करेंगे। विधानभवन में अभी राज्य विधानसभा का सत्र चल रहा है। मार्च में हिस्सा लेने वालों में अधिकतर लोग ठाणे, भुसावल और मराठवाड़ा क्षेत्रों से हैं। किसान स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करने की मांग कर रहे हैं। स्वामीनाथन रिपोर्ट में यह सुझाव दिया गया है कि जमीन और पानी जैसे संसाधनों तक किसानों की निश्चित रूप से पहुंच और नियंत्रण होना चाहिए। वे न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने और इसे लागू करने के वास्ते न्यायिक तंत्र की भी मांग कर रहे हैं। प्रदर्शन का आयोजन कर रहे लोक संघर्ष मोर्चे की महासचिव प्रतिभा शिंदे ने कहा, हमने राज्य सरकार से लगातार कहा है कि वह लंबे समय से चली आ रही हमारी मांगों को पूरा करे, लेकिन प्रतिक्रिया उदासीन रही है।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया