काशी के गंगा घाटों पर उतर आया देवलोक

Updated on: 22 April, 2019 06:39 AM
काशी के गंगा घाटों पर शुक्रवार शाम मानो पूरा देवलोक उतर आया। देवदीपावली महोत्सव दीपों के प्रकाश से प्रदीप्त गंगा के अप्रतिम सौंदर्य को निहारने के लिए देश-दुनिया से लाखों लोग जुटे। इनमें प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, रेल मंत्री पीयूष गोयल, पर्यटन मंत्री डा. रीता बहुगुणा जोशी, फिल्म अभिनेता अनिल कपूर और ड्रमर शिवमणि समेत कई नामचीन हस्तियां भी थीं। घाटों को एकाकार करते 21 लाख दीपों का अलौकिक एवं नयनाभिराम दृश्य कैमरों में कैद करने के लिए पर्यटकों में होड़ रही। दुनिया के किसी कोने में ऐसा अद्भुत लोकपर्व नहीं होता। शाम चार बजते ही ऐसा लगा मानों, पूरा शहर गंगा घाटों की ओर उमड़ पड़ा हो। सामनेघाट से लेकर आदिकेशव घाट, करीब सात किमी की दूरी में 84 घाटों पर दीपों की लड़ियां अठखेलियां करती नजर आयीं। धर्म-अध्यात्म और राष्ट्रीय भावना के इस पर्व पर काशी के प्रमुख घाटों पर उमड़ी देशी-विदेशी दर्शकों की भीड़ के कारण तिल रखने की जगह नहीं थी। लोगों ने शाम से ही घाटों पर बैठकर घंटों उस ऐतिहासिक क्षण की प्रतीक्षा की जब देव दीपावली के दीपों के प्रकाश से पूरा क्षेत्र आलोकित हो उठा। गोधूलि में पंचगंगा घाट स्थित हजारा दीप फलक पर 1001 दीप जलने के बाद बाकी घाटों पर दीप आलोकित होने शुरू हो गए। इसके साथ ही 'हर-हर महादेव ‘हर-हर गंगे' और धार्मिक गीत-संगीत से पूरा वातावरण सांस्कृतिक धार्मिक भावना से सराबोर हो गया। गंगा में सैकड़ों नावों और बजड़ों पर बैठे दर्शनार्थियों, पर्यटकों ने इस अद्भुत दृश्य को देखा। जीवन धन्य हो गया : पीयूष गोयल देव दीपावली के मुख्य कार्यक्रम के तहत दशाश्वमेध और शीतला घाट पर गंगा की महाआरती हुई। महाआरती में शामिल रेलमंत्री पीयूष गोयल ने खुद को सौभाग्यशाली बताया। कहा कि ऐसे मौके पर आकर जीवन धन्य हो गया। शहीदों की याद में दीपक जलाए गए और उन्हें सलामी दी गई। इस अवसर पर दीपों के माध्यम से पुरखों और पितरों को भी श्रद्धांजलि अर्पित की।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया