ग्राम्या संस्थान एवं UNTF के संयुक्त तत्वाधान में महिला हिंसा

Updated on: 17 October, 2019 02:20 PM
ग्राम्या संस्थान एवं UNTF के संयुक्त तत्वाधान में महिला हिंसा एवं स्त्री पुरुष में बराबरी को लेकर चलाए जा रहे 16 दिवसीय अभियान के अन्तर्गत शुक्रवार को ब्लॉक परिसर में जेण्डर समानता मेला का आयोजन किया गया कार्यक्रम का शुभारंभ खण्ड विकास अधिकारी श्री श्री शंकर प्रसाद सोनकर, बिन्दु सिंह , ICDS विभाग की सुपरवाइजर माधुरी देवी व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नौगढ़ के MOIC डाक्टर अवधेश ने संयुक्त रुप से दीप प्रज्वलित करके किया। इसके बाद अभियान पर प्रकाश डालते हुए मैसवा के जिला संयोजक सुरेन्द्र ने बताया कि चन्दौली जनपद में बदलाव हेतु साझेदारी परियोजना चलाया जा रहा है जिसके अन्तर्गत महिलाओं के ऊपर हो रही शारीरिक, मानसिक, आर्थिक व यौनिक हिंसा व महिला पुरुष के बीच गैरबराबरी को कैसे मिलकर समाप्त किया जाय। इसको लेकर समुदाय, स्कूल, कॉलेज, बाज़ार व कस्बों में पपेट शो, कैंडिल मार्च, गोष्ठी, साइकिल यात्रा व साँप सीढ़ी के खेल के माध्यम से लड़का-लड़की में भेदभाव एवं महिला हिंसा पर चर्चा करा कर लोगों को जानकारी दी गई। उसी कड़ी में आज हम लोग जेण्डर समानता मेले का आयोजन किये हैं जिसमें जेण्डर आधारित समानता के लिए रोटी बनाने, कपड़े सिलने एवं गुब्बारे के खेल के माध्यम से लोगों को यह संदेश दिया जायेगा कि लिंग के आधार पर काम का बंटवारा नहीं किया जा सकता है। कोई भी काम हो महिला पुरुष दोनों कर सकते हैं तभी महिला पुरुष गैरबराबरी समाप्त होगी। कार्यक्रम में संस्थान की निदेशक बिन्दु सिंह ने कहा कि महिला पुरुष में बराबरी एवं समाज में हो रही महिलाओं पर हिंसा को रोकने के लिए यह जागरूकता अभियान उत्तर प्रदेश के कई जिलों में एक साथ चलाया जा रहा है। कपड़े धोना, बर्तन साफ करना, घर की सफाई बच्चों की देखभाल आदि काम महिलाओं के काम क्यों माने जाते हैं अगर इन कामों में पुरुष भी भागीदारी करे तो समाज में गैर बराबरी कम होगी एवं परिवार खुशहाल रहेगा। वहीं नीतू सिंह ने बताया कि दिन प्रतिदिन महिलाओं के साथ मारपीट गाली-गलौज एवं अन्य तरह की हिंसा सामान्य बात है सरकार द्वारा इसे रोकने के लिए घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम 2005 कानून बनाया गया है इसके प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। इस अवसर पर नौगढ़ विकास खण्ड के 30 गाँव (सोनवार, नर्वदापुर, देउरा, बसौली, झुमरिया, लालतापुर, डुमरिया, लौवारी खुर्द, बाघी आदि) से त्रिभुवन, मोहन, रामबली, अमरजीत, विजय, कोलेश्वर, हरिचरन, अजीत, लक्ष्मीना, उषा, सुशीला, रेखा, आदि सहित सैकड़ों लोग शामिल हुए। ब्यूरो रिपोर्ट-चन्दौली
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया