BJP विधायक ने SDM को धमकाया, कहा- आपको मेरी ताकत का अहसास नहीं

Updated on: 20 October, 2019 06:01 PM
मेरी ताकत का अहसास नहीं है। जानती नहीं मैं विधायक हूं। लोकतंत्र की ताकत का अहसास नहीं है। आप सरकार के विरुद्ध काम कर रही हैं। आप मुझसे हेकड़ी में बात करेंगी। यह जतना चाहती हैं एसडीएम हैं। आपको मालूम नहीं मैं विधायक हूं। यह किसी फिल्म का दृश्य नहीं बल्कि किरावली तहसील में सोमवार को हुआ घटनाक्रम है। भाजपा फतेहपुरसीकरी क्षेत्र के विधायक उदयभान सिंह एसडीएम किरावली गरिमा सिंह से कुछ इस अंदाज में पेश आए। इस तड़काभड़की के बाद जनता ने एसडीएम मुर्दाबाद के नारे लगाना शुरू किया। वह अकेली थीं। खामोश हो गईं। मेरी ताकत का अहसास नहीं है। जानती नहीं मैं विधायक हूं। लोकतंत्र की ताकत का अहसास नहीं है। आप सरकार के विरुद्ध काम कर रही हैं। आप मुझसे हेकड़ी में बात करेंगी। यह जतना चाहती हैं एसडीएम हैं। आपको मालूम नहीं मैं विधायक हूं। यह किसी फिल्म का दृश्य नहीं बल्कि किरावली तहसील में सोमवार को हुआ घटनाक्रम है। भाजपा फतेहपुरसीकरी क्षेत्र के विधायक उदयभान सिंह एसडीएम किरावली गरिमा सिंह से कुछ इस अंदाज में पेश आए। इस तड़काभड़की के बाद जनता ने एसडीएम मुर्दाबाद के नारे लगाना शुरू किया। वह अकेली थीं। खामोश हो गईं। ओलावृष्टि से बर्बाद हुई फसल का मुआवजा न मिलने पर सैकड़ों किसान तहसील किरावली का घेराव करने पहुंचे थे। आक्रोशित किसानों ने भाजपा विधायक उदयभान सिंह को तहसील में घेर लिया। उनके समक्ष नाराजगी जताने लगे। नारेबाजी और हंगामा हो रहा था। शोर सुनकर एसडीएम किरावली गरिमा सिंह अपने कार्यालय से बाहर आ गईं। उन्होंने किसानों से कहा कि मेरे समझाने पर भी आप लोग मानने को तैयार नहीं हैं। बैंक खाता संख्या मिलने पर आपको मुआवजा मिल जाएगा। आप लोग मान नहीं रहे हो। हंगामा कर रहे हैं। यह सुन विधायक चौधरी उदयभान सिंह आपा खो बैठे। गुस्से में आ गए। एसडीएम पर बसर पड़े। गुस्से में यह तक बोल दिया कि मेरी ताकत का अहसास नहीं है। विधायक हूं मैं। उनके बिगड़े बोल कैमरे में कैद हो गए। वीडियो चंद मिनट में ही आंधी की तरह वायरल हो गया। विधायक ने एसडीएम से कहा कि जब शासन से मुआवजा राशि प्राप्त हो चुकी है, तो किसानों को मुआवजा क्यों नहीं दिया जा रहा। इस तड़का भड़की के बीच किसानों ने एसडीएम मुर्दाबाद के नारे लगाना शुरू कर दिया। भीड़ में अपने को अकेला देखकर एसडीएम सहम गईं। उन्हें उम्मीद नहीं थी कि सत्ताधारी विधायक भरी भीड़ में उनके साथ अभद्रता करेंगे। इस गरिमा का ख्याल भी नहीं रखेंगे कि वह महिला हैं। सरकारी सेवक हैं। जनता की सेवा के लिए सरकार ने ही उन्हें तैनात किया है। वे सरकारी नियमों के तहत कार्रवाई कर रही हैं। अप्रैल में हुई थी ओलावृष्टि 11 अप्रैल 2018 को ओलावृष्टि होने से किरावली तहसील क्षेत्र में गेहूं की हजारों बीघा फसल बर्बाद हो गई थी। हजारों किसानों की फसलें बर्बाद हुई थी। शासन से किसानों को मुआवजा बांटने के लिए 33 करोड़ रुपये भेजे गए थे। पीड़ित किसानों को तहसील प्रशासन की ओर से मुआवजा बांटा भी गया। 27.3 करोड़ की मुआवजा राशि किसानों को बांटी जा चुकी है। तमाम किसानों को अभी तक मुआवजा नहीं मिल पाया है। सोमवार को भाजपा सहकारिता प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष एडवोकेट रामेश्वर वर्मा, गयाप्रसाद शर्मा प्रधान और ग्राम प्रधान जितेंद्र वर्मा के नेतृत्व में तहसील क्षेत्र के दर्जनों गांवों के किसान तहसील पहुंचे थे। किसानों ने मुआवजे की मांग को लेकर तहसील पर नारेबाजी भी की। क्षेत्रीय विधायक चौ. उदयभान सिंह का भी किसानों ने घेराव कर लिया था। विधायक को खूब खरी-खोटी सुनाईं। किसानों ने विधायक को बताया कि आठ महीने बीतने के बाद भी उन्हें अभी तक मुआवजा नहीं मिला है। प्रदर्शन करने वालों में डॉ. प्रेमसिंह, सुखवीर सिंह प्रधान, डॉ. राजेन्द्र छौंकर, धारा सिंह इंदौलिया, गुड्डू नरवार, पवन इंदौलिया, संजीव इंदौलिया आदि दर्जनों गांवों के सैकड़ों किसान शामिल थे। एसडीएम गरिमा सिंह ने कहा कि विधायक चौ. उदयभान सिंह और कुछ भाजपा नेता किसानों को गुमराह करके तहसील लाए थे कि तहसील में मुआवजे के चेक बांटे जा रहे हैं। सुनियोजित तरीके से मेरे खिलाफ किसानों से हंगामा कराया गया। जिन किसानों को मुआवजा नहीं मिल पाया है, उनसे बैंक की खाता संख्या मांगी गई है। जल्द उन्हें मुआवजा दे दिया जाएगा। सुर्खियों में रहते हैं विधायक उदयभान हाल ही में विधायक उदयभान सिंह के नाती के खिलाफ छत्ता थाने में छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज हुआ था। उनके नाती पर दिल्ली से आई एक युवती के साथ छेड़छाड़ का आरोप लगा था। हालांकि सत्ता के दबाव में पुलिस ने इस मुकदमे में कार्रवाई नहीं की थी। एक रात में तीन घटनाएं हुई थीं। तीनों में उनके नाती को नामजद किया गया था।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया