सायना नेहवाल ने माना, साल के आखिर में PBL खेलना शरीर पर असर डालता है

Updated on: 22 April, 2019 10:16 PM
भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल का मानना है कि साल भर के व्यस्त सत्र के बाद आखिर में प्रीमियर बैडमिंटन लीग (PBL) खेलने का शरीर पर असर पड़ता है। सायना ने कहा, ''हर कोई अपना शत प्रतिशत देना और जीतना चाहता है। लेकिन यह साल के आखिर में होती है और कई बार शरीर पर असर पड़ता है। खिलाड़ियों के लिए यह आसान नहीं है। यह सबसे कठिन टूर्नामेंट में से एक है लेकिन सभी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हैं।'' नौ टीमों की लीग में नार्थ ईस्टर्न वारियर्स की कप्तान सायना से पूछा गया था कि खिलाड़ी क्या सुपर सीरिज टूर्नामेंटों की तरह पीबीएल में प्रदर्शन कर सकते हैं। सायना ने कहा, ''यह एक टूर्नामेंट की तरह नहीं बल्कि टीम स्पर्धा है जिसे खेलने में मजा आता है। हमारे लिये यह त्यौहार की तरह है। इससे युवाओं को भी फायदा होता है और इसकी वजह से खेल का प्रचार हो रहा है।'' ओलंपिक और विश्व चैम्पियन कैरोलिना मारिन ने कहा, ''दबाव एकदम अलग तरह का है। हमें अपने बारे में नहीं टीम के बारे में सोचना है। राष्ट्रीय बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा कि इस लीग से किदाम्बी श्रीकांत जैसे खिलाड़ियेां को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपने प्रदर्शन में सुधार में मदद मिली है। बता दें कि लीग में चीन के तीन बड़े खिलाड़ी भी हिस्सा ले रहे हैं। इसके अलावा इंडियन जूनियर्स की मेजबानी करने वाले भी पहली बार पीबीएल में दिखेंगे। 23 दिन तक चलने वाली इस लीग में कुल नौ टीमें दिल्ली डैशर्स, अहमदाबाद स्मैश मास्टर्स, अवध वॉरियर्स, बेंगलुरू रेपटर्स, मुंबई रॉकेट्स, हैदराबाद हंटर्स, चेन्नई स्मैशेस, नार्थईस्टर्न वॉरियर्स और पुणे 7 एसेस उतर रही हैं। यह सभी टीमें छह करोड़ की ईनामी राशि के लिए लड़ेंगी। लीग का पहला राउंड मुंबई में खेला जाएगा। इसके बाद लीग हैदराबाद, पुणे, अहमदाबाद पहुंचेगी। सेमीफाइनल और फाइनल बेंगलुरू में खेले जाएंगे।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया