केजरीवाल के भाषण के दौरान लोगों ने निकाली खांसी की आवाज, गडकरी ने यूं रोका

Updated on: 20 November, 2019 03:21 AM
आधिकारिक कार्यक्रम के दौरान कुछ लोगों ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के संबोधन के दौरान खांसने की आवाज निकाल कर बाधा पहुंचाई। स्थिति को शांत करने के लिए केन्द्रीय मंत्रियों नितिन गडकरी और हषवर्द्धन को हस्तक्षेप करना पड़ा। 2016 तक कफ की समस्या से जूझ रहे केजरीवाल का मजाक बनाने वाले इस वाकये ने विज्ञान भवन में चल रहे कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री को पसोपेश में डाल दिया। उन्होंने दर्शकों से शांति बनाए रखने की भी अपील की। न्यूज एजेंसी भाषा की खबर के मुताबिक कार्यक्रम का आयोजन स्वच्छ गंगा राष्ट्रीय परियोजना और दिल्ली जल बोर्ड की ओर से यमुना स्वच्छता कार्यक्रम के उद्घाटन पर किया गया था। कार्यक्रम में केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी और पर्यावरण मंत्री हर्षवर्द्धन भी शामिल हुए। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, राज्य के जल संसाधन मंत्री सत्यपाल सिंह और दिल्ली से भाजपा सांसद तथा कार्यकर्ता भी वहां उपस्थित थे। केजरीवाल के भाषण शुरू करते ही कुछ लोगों ने खांसने की आवाज निकाल कर उनका मजाक बनाया। जब लोगों की आवाज ज्यादा तेज हो गई तो गडकरी और हर्षवर्द्धन ने हस्तक्षेप किया और लोगों से शांत रहने को कहा। नितिन गडकरी ने कहा - सरकारी कार्यक्रम है, शांत रहें। काम की बात आने पर अफसरों की खिंचाई करने से नहीं डरता: गडकरी केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने नमामि गंगे परियोजना पर काम करने वाले अधिकारियों की तारीफ करते हुए गुरुवार को कहा कि काम की बात आने पर वह अधिकारियों की खिंचाई करने से नहीं डरते हैं। एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा, ''काम की बात आने पर मैं (अफसरों की) खिंचाई करने से नहीं डरता। मैं किसी की नहीं सुनता। लेकिन मैं गंगा पर काम की जब समीक्षा करता हूं... हमारे सचिव यू. पी. सिंह, हमारे (स्वच्छ गंगा राष्ट्रीय मिशन के) महानिदेशक राजीव रंजन मिश्रा और उनकी टीम ने पिछले छह महीने में बहुत काम किया है। गौरतलब है कि गडकरी ने एक दिन पहले ही नेताओं के लिए जवाबदेही तय करने से होने वाले फायदों पर व्याख्यान दिया था।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया