प्रवासी भारतीय सम्मलेन २०१९ : आज भारतीयों का पासपोर्ट उनका सुरक्षा कवच बन गया है - सुषमा स्वराज

Updated on: 26 June, 2019 06:26 AM
उत्तर प्रदेश के वाराणसी में तीन दिवसीय प्रवासी भारतीय सम्मेलन आज से शुरू हो गया है। बड़ालालपुर स्थित ट्रेड फेसिलिटी सेंटर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इसका औपचारिक शुभारंभ किया। बनारस में पहली बार आयोजित हो रहे इस सम्मेलन में दुनिया के 75 देशों के करीब तीन हजार प्रवासी मेहमान शामिल हो रहे हैं। इनमें मॉरीशस, त्रिनिडाड, फिजी, सऊदी अरब, कनाडा, यूएसए, यूके, मलेशिया, जर्मनी, फ्रांस समेत कई देशों के ज्यादातर प्रवासी मेहमान काशी पहुंच चुके हैं। इस बार सम्मेलन की थीम ‘नए भारत के निर्माण में प्रवासी भारतीयों की भूमिका’ है। सम्मेलन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मॉरीशस के पीएम प्रवींद जगन्नाथ्, नार्वे के सांसद हिमांशु गुलाटी, न्यूजीलैंड के सांसद कंवलजीत सिंह बख्शी, राज्यपाल राम नाईक, सीएम योगी आदित्यनाथ, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह, ब्रिटेन में हाउस ऑफ लार्ड्स के सदस्य लार्ड राजेन्दर पॉल लुंबा, अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर, उत्तरांचल के सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत, केन्द्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार, सूबे के उद्योग मंत्री सतीश महाना समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्री व केन्द्रीय मंत्री शामिल होंगे। संबंधित विशिष्टजन के कार्यक्रम में शामिल होने की जानकारी प्रशासन को मिल चुकी है। यूपी का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने युवा प्रवासी भारतीयों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे नेता अटल जी ने 2003 में प्रवासी भारतीय दिवस की शुरुआत की थी और तबसे लेकर अबतक दुनियाभर में रह रहे भारतीयों को जोड़ने का काम किया गया है। यूपी को पहला अवसर प्राप्त हुआ है जब हम प्रवासी भारतीय दिवस आयोजित करने का मौका मिला है। 2003 का आयोजन एक दिवसीय था इसके बाद 2014 में 2 दिवसीय आयोजन हुआ, लेकिन ये पहला मौका है जब 3 दिवसीय प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन हो रहा है। इस मौके पर हम सबको काशी के साथ जुड़ने का अवसर प्राप्त हो रहा है, साथ ही प्रयागराजी कुम्भ में जाने का अवसर भी मिलेगा। साथ ही एक उभरते हुए भारत का दृश्य देखने का मौका 26 जनवरी को दिल्ली में प्राप्त होगा। देश का सबसे बड़ा युवा वर्ग यूपी में है। सीएम वे कहा कि आप सबने दुनिया में अपना लोहा मनवाया है, आपका पुरुषार्थ, आपका परिश्रण, आपकी प्रतिभा की वजह से भारत का सम्मान बढ़ता है। आज आप बदलती हुई काशी की तस्वीर देखेंगे। आप देखेंगे कैसे पीएम मोदी के प्रयास से काशी की पौराणिकता को बचाकर आधुनिकता के साथ विकसित किया गया है। ये पहला मौका है जब 450 साल बाद प्रयागराज में अक्षयवट और सरस्वती कूप का दर्शन करने का मौका मिलेगा। ये मौका आज इस अवसर में शामिल युवाओं के पूर्वजों को भी नहीं मिला लेकिन आप सौभाग्यशाली हैं जिसे यह सौभाग्य मिल रहा है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि तीन करोड़ 10 लाख भारतीय विदेशों में रहते हैं और सबमें भारतीयता समान है। आज भारत के लोग अन्य देशों के प्रमुख भी हैं और बड़ी-बड़ी कंपनियों के प्रमुख भी, जिनकी वजह से देश का नाम हो रहा है। गूगल और माइक्रोसॉफ्ट जैसी बड़ी मल्टीनेशनल के प्रमुख आज भारतीय हैं। युवा भारतीय दिवस का आयोजन न सिर्फ आपको जड़ों से जोड़े रखना है बल्कि ये सीखने का मौका देना भी है कि कैसे आप देश के विकास के भागीदार बनते हैं। आज हम देश की शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ कर रहे हैं और हमने कई ऐसे कार्यक्रम शुरू किए हैं, जो शोध को बढ़ावा देने का काम कर रहा है। आज हमारे पास युवाओं की बड़ी संख्या है। हमने सुरक्षित जाओ, प्रशिक्षित जाओ योजना चलाकर दूसरे देशों में काम करने वाले लोगों की मदद का काम किया। हम फर्जीवाड़ा करके विदेश भेजने वाली एजेंसियों पर भी लगाम लगाने का काम कर रहे हैं। हम आज लगभग हर प्रभावी सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं, ताक़ि लोगों को सोशल मीडिया के ज़रिए मदद की जा सके। उन्होंने कहा कि आज भारतीयों का पासपोर्ट उनका सुरक्षा कवच बन गया है। हमने 24 घंटों में लोगों को एक ट्वीट पर मदद पहुंचाने का काम किया है। हमने पीएम मोदी की फलम्पर भारत को जानिये क्विज़ शुरू किया है, जिसमें बड़ी संख्या में लोग हिस्सा ले रहे हैं। 2022 में हम दुनिया के सबसे युवा देश होंगे जिसकी 64 फीसदी आबादी का औसत 29 साल होगा। मैं आप सबका स्वागत करती हूं प्रवासियों के स्वागत में सजी पूरी काशी प्रवासियों को टेंट सिटी में बने अत्याधुनिक स्विस काटेज, होटलों एवं निजी घरों में ठहराया गया है। प्रवासियों के स्वागत में पूरी काशी सजी हुई है। घाटों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित हैं। प्रवासी मेहमान गंगाघाटों के साथ ही गंगा आरती एवं श्रीकाशी विश्वनाथ का दर्शन करेंगे। 22 जनवरी को फिल्म अभिनेत्री एवं सांसद हेमा मालिनी नृत्य नाटिका प्रस्तुत करेंगी। सुरक्षा के कड़ें इंतजाम सम्मेलन स्थल के आसपास सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। 400 सीसीटीवी कैमरे से कार्यक्रम स्थल पर निगरानी की जा रही है। अर्द्धसैनिक बलों के साथ 13 हजार जवानों की तैनाती की गई है। प्रवासियों के ठहरने के लिए अत्याधुनिक स्विस काटेज बनाये गये हैं। टेंट सिटी से कार्यक्रम स्थल तक प्रवासियों के आवागमन की सुविधा को देखते हुए रिंग रोड एवं सिंधोरा मार्ग आम लोगों के लिए पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। सुषमा, खट्टर और राठौर काशी पहुंचे सम्मेलन में शामिल होने के लिए रविवार देर शाम विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर, केन्द्रीय खेल एवं युवा कल्याण राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर, विदेश राज्यमंत्री वीके सिंह आदि मंत्री बनारस पहुंच गए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं राज्यपाल राम नाईक सोमवार सुबह बनारस पहुंचेंगे।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया