UP: इस बार करीब पांच लाख करोड़ का होगा प्रदेश का बजट, नई योजनाओं पर सरकार में चल रहा है मंथन

Updated on: 19 June, 2019 07:22 PM
पांच फरवरी में शुरू हो रहे बजट सत्र के दौरान प्रदेश सरकार 2019-20 का जो बजट प्रस्तुत करेगी वह अब तक का सबसे बड़ा बजट होगा। बजट करीब पांच लाख करोड़ रुपये तक का होने का अनुमान है। इस बजट से समाज के सभी वर्गों को साधने की कोशिश सरकार की रहेगी। चुनावी वर्ष में प्रस्तुत होने वाले इस बजट की तैयारियों को लेकर कुछ दिनों पूर्व ही मुख्यमंत्री ने समीक्षा की थी। बजट निर्माण करने वाले वित्त विभाग के अधिकारियों को सरकार की मंशा से अवगत करा दिया था। मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक के बाद से वित्त विभाग के अधिकारी लगातार बजट प्रस्ताव तैयार करने में जुटे हुए हैं। बजट लोकलुभावन हो और सभी वर्गों से जुड़ा हो इसे ध्यान में रखकर प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। राज्य की योजनाओं पर रहेगा अधिक फोकस फरवरी में शुरू हो रहे बजट सत्र में प्रस्तुत किए जाने वाले 2019-20 के इस बजट का फोकस राज्य की योजनाओं पर अधिक रहेगा। आमचुनाव होने के कारण केंद्र सरकार इस बार अतंरिम बजट ही प्रस्तुत कर सकेगी। चुनाव बाद जो सरकार बनेगी वह फिर से पूर्ण बजट लाएगी। इस लिहाज से प्रदेश के इस बजट का बड़ा हिस्सा राज्य सरकार की योजनाओं के साथ ही नई योजनाओं के लिए रहेगा। युवा, किसान, उद्योगों और महिलाओं के लिए इस बजट में कुछ नया करने की तैयारी है। साधु-संतों के पेंशन, लखनऊ में खुलने वाले अटल बिहारी वाजपेयी चिकित्सा विश्वविद्यालय, नए मे़डिकल कालेजों के निर्माण आदि के लिए भी बजट का प्रबंध किया जा सकता है। 2018-19 का बजट 4.28 लाख करोड़ पिछले वर्ष 16 फरवरी को पेश 2018-19 का बजट 04 लाख 28 हजार 384 करोड़ 52 लाख रुपये का था। बजट प्रस्तुत होने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा था कि उत्तर प्रदेश बहुत बड़ा प्रदेश है। राज्य के बजट को और बढ़ाया जाएगा। इस बजट में भी किसानों, उद्योगों, एक्सप्रेस-वे, युवाओं को स्वरोजगार आदि को तरजीह दी गई थी।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया