सपोर्टिंग हीरो जो आज अपने दम पर फिल्म हिट कराने का टैलेंट रखते हैं !

Updated on: 20 February, 2019 11:59 PM
अभी हाल में टीवी शो ‘कॉफ़ी विद करण’ में एक्टर अभिषेक बच्चन ने अपने आपको साइड वाला हीरो मानते हुए दुख जताया था। उन्होंने कहा था कि उन्हें थोडा बुरा लगता है जब वो लीड हीरो फ़िल्में करने के बाद अब सपोर्टिंग रोल्स में नज़र आते हैं। लेकिन शायद अभिषेक ये भूल गए हैं कि बॉलीवुड में ऐसे बहुत से एक्टर्स हैं जो सपोर्टिंग रोल्स से ही अपना नाम और इंडस्ट्री में अपनी जगह बना चुके हैं। और अब उनका करियर ग्राफ कुछ इस तेजी से चला है कि सपोर्टिंग रोल करने वाले अब अपने दम पर फिल्म हिट करवा रहे हैं। मतलब फिल्म की सारी जिम्मेदारी अब इन्हीं सपोर्टिंग रोल करने वाले लीड हीरो पर है। बॉलीवुड में जूनियर आर्टिस्ट के तौर पर कदम रखने वाले नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी आज टॉप लेवल के स्टार हैं। साइड रोल से लेकर विलेन, हीरो, बायोपिक सभी तरह की फिल्मों में अपनी पहचान बना चुके हैं। उस श्रेणी में आते हैं जहाँ एक्टर एक्टिंग से मशहूर होता है स्टारडम से नहीं। नवाज़ुद्दीन ने हर तरह के रोल में अपनी पहचान बनाई। सपोर्टिंग से आज शीर्ष पर पहुंचे नवाज़ुद्दीन ने साइड किरदारों को निभा कर जैसे उन्हें अमर कर दिया ! सालों स्ट्रगल करने वाले आज पंकज त्रिपाठी के करियर की गाड़ी बेशक थोड़ी देरी से चली। उन्हें छोटे-छोटे रोल्स मिले। लेकिन आज जिस फिल्म में ये सपोर्टिंग किरदार में भी नज़र आते हैं। उस फिल्म का दर्शकों से कनेक्शन बन सा जाता है। सपोर्टिंग किरदार करने वाले पंकज त्रिपाठी आज भी बड़े बड़े सुपरस्टार्स पर भारी हैं। आयुष्मान खुराना के छोटे भाई अपर्शक्ति बेशक बड़े भाई की तरफ लीड में रहकर फ़िल्में नहीं कर रहे हैं। लेकिन उनका हीरो के साथ खड़े होकर दमदार एक्टिंग करना साबित करता है कि फिल्म हिट कराना सिर्फ लीड हीरो के बस की बात नहीं। फिल्म स्त्री में नज़र आये अपार्शक्ति की परफॉरमेंस को काफी सराहा गया। जीशान अयूब खान इतनी फिल्मों में सपोर्टिंग करैक्टर निभा चुके हैं कि ऐसा कहा जाने लगा है कि ये एक्टर ही सपोर्टिंग किरदार करने के लिए बने हैं। फिल्म तनु वेड्स मनु हो या राँझना और या शाहरुख़ खान की जीरो। जीशान जैसे फिल्म की कड़ी से जुड़ गए। ऐसा भी कहा जा सकता है कि इन फिल्मों में अगर जीशान नहीं होते तो शायद फिल्म अधूरी मानी जाती। जीशान शाहरुख़ से लेकर सलमान तक फिल्म में सबके साथी बनकर उभरे हैं। अगर सपोर्टिंग किरदार में अपने आप को निखारा जा सकता है तो क्या बुराई है।
View More