पैराशूट के सहारे सकुशल नीचे उतरे थे अभिनंदन, लगा दी थी भारतीय सीमा की और दौड़

Updated on: 19 November, 2019 04:26 AM
भारतीय सीमा में हमला करने आ रहे पाकिस्तानी विमानों को खदेड़ने के दौरान वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन (IAF Pilot Abhinandan) ने अदम्य साहस का परिचय दिया। मिग लड़ाकू विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद पाकिस्तान की सीमा में गिरने के बाद अभिनंदन ने दिलेरी दिखाते हुए न केवल हवा में गोलियां चलाईं। अभिनंदन न खुद को बचाने का प्रयास भी किया और भारतीय सीमा में लौटने के लिए आधा किलोमीटर की दौड़ भी लगाई। पाकिस्तान की मीडिया ने भी अभिनंदन के अदम्य साहस की कहानी को प्रमुखता दी है। पैराशूट के सहारे सकुशल नीचे उतरे पीओक के भीम्बर में होर्रा गांव निवासी मोहम्मद रज्जाक चौधरी ने बताया कि बुधवार सुबह 8:45 बजे वह घर में खड़े थे तभी उन्होंने दो विमानों में आग लगते देखा। एक विमान तेज रफ्तार में नियंत्रण रेखा पार करके गिरा जबकि दूसरा विमान आग की लपटों में घिर कर उनके घर के नजदीक गिरा। चौधरी ने बताया कि उसी समय उन्होंने अपने घर से करीब एक किलोमीटर दूर मैदान में एक पैराशूट उतरते देखा। इसके बाद उन्होंने तुरंत गांव के लड़कों को बुलाया और घटनास्थल पर पहुंचे तो देखा कि पैराशूट के सहारे एक पायलट सकुशल नीचे उतरा था। होर्रा गांव नियंत्रण रेखा से 7 किलोमीटर की दूरी पर है। भारत जिंदाबाद के नारे लगाए चौधरी ने बताया कि इस दौरान वहां पहुंचे युवकों ने पायलट (अभिनंदन) को घेर लिया। जब पायलट ने उनसे पूछा कि वह भारत में है या पाकिस्तान में। तब युवकों ने उन्हें बताया कि वह भारत में हैं जिसके बाद उन्होंने भारत जिंदाबाद के नारे लगाए और पूछा कि भारत में कौन सी जगह है। चौधरी ने कहा कि वहां मौजूद युवाओं ने भ्रम की स्थिति बरकरार रखी। पायलट ने वहां मौजूद लड़कों से कहा कि उनकी कमर टूट गई है और उन्होंने पीने के लिए पानी मांगा। पर वहां मौजूद कुछ युवा जो पायलट के नारों को बर्दाश्त नहीं कर सके, पाकिस्तानी सेना जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। इसके बाद अभिनंदन ने हवा में फायरिंग की और लड़कों ने अपने हाथों में पत्थर उठा लिए। छोटे से तालाब में कूछ गए अभिनंदन अभिनंदन उसके बाद एक छोटे से तालाब में कूद गए और अपने जेब से कुछ दस्तावेज और मैप निकाले, जिसमें से कुछ को उसने निगलने की कोशिश की और बाकी को पानी में गीला कर बबार्द करने की कोशिश की। अंत में लंबे समय तक पीछा करने के बाद भारतीय पायलट ने आत्मसमर्पण कर दिया। भारतीय पायलट ने यह कहते हुए खुद को उनके हवाले कर दिया कि उसकी हत्या न की जाए। लड़कों ने उसे पकड़ लिया और कुछ ने उसके साथ हाथापाई की, जबकि कुछ अन्य हमलावरों को रोक रहे थे।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया