जानिए, क्यों बिहार के बेगुसराय और पटना साहिब लोकसभा सीट पर है देश की नजर?

Updated on: 16 November, 2019 05:44 AM
यूं तो राजनैतिक शूरमाओं और बाहुबलियों की मौजूदगी के चलते बिहार के चुनाव हमेशा ही राष्ट्रीय पटल पर चर्चा का विषय रहते हैं। मगर इस बार बेगूसराय और पटना साहिब सीटों पर देशभर की नजर है। सिने स्टार शत्रुघ्न सिन्हा के भगवा उतार पंजा थामने की तैयारी और जेएनयू प्रकरण से सुर्खियों में आने वाले कन्हैया कुमार के मैदान में आने से इन सीटों का चुनावी रंग चटख हो गया है। इनका मुकाबला भी राष्ट्रीय पहचान वाले दो भाजपाई दिग्गजों रविशंकर प्रसाद और गिरिराज सिंह से है। दरअसल इन दोनों सीटों पर हार-जीत के अलावा कई शख्सियतों के तेवरों का भी इम्तिहान है। बेगूसराय और पटना साहिब के लड़ाकों की पहचान राष्ट्रीय फलक पर है। इसी पहचान ने इन दोनों सीटों को खास बना दिया है। बात पटना साहिब से शुरू करते हैं। यहां से भाजपा के टिकट पर शत्रुघ्न सिन्हा दो बार जीते हैं। वर्ष 2014 में प्रचंड बहुमत से मोदी सरकार के अस्तित्व में आने के कुछ समय बाद ही शत्रुघ्न की नाराजगी दिखाई देने लगी थी। उनके बागी तेवरों का नतीजा यह हुआ कि इस बार भाजपा के उम्मीदवारों की सूची में पटना साहिब सीट पर शत्रु की जगह रविशंकर प्रसाद का नाम था। हालांकि इसमें कुछ भी चौंकाने वाला नहीं था, क्योंकि शत्रुघ्न पहले ही भाजपा को अलविदा कहने के संकेत दे चुके थे। शत्रुघ्न के बागी तेवरों का इस बार मुकाबला भाजपाई एजेंडे को राष्ट्रीय पटल पर धार देने वाले केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से है।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया