लोकसभा चुनाव 2019 : नगर निगम की राजनीति की नर्सरी से निकले कई नेता

Updated on: 19 June, 2019 07:26 PM
राजनीति की नर्सरी के रूप में पहचाने जाने वाले लखनऊ नगर निगम ने भी देश को कई बड़े नेता दिए हैं। यहां की नर्सरी से राजनीति सीखकर निकलने वाले कई नेता सांसद, मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री व प्रदेश में कैबिनेट मंत्री बने। कुछ अब भी महत्वपूर्ण पदों पर हैं। पूर्व मुख्यमंत्री राम प्रकाश गुप्ता की लखनऊ नगर निगम से ही पहचान बनी। इसके बाद वह प्रदेश के मुख्यमंत्री भी बने। नगर निगम को शहर की राजनीति का पाठशाला कहा जाता है। इसी वजह इसमें दाखिले को लेकर हमेशा लोग लालायित रहते हैं। गली मोहल्लों के तमाम छोटे छोटे नेताओं ने यहां राजनीति सीख कर अपनी पहचान बनाई है। राम प्रकाश गुप्ता सीएम बने पूर्व मंत्री राम प्रकाश गुप्ता भी इन्हीं में से एक हैं। राम प्रकाश 11 जून 1964 से 31 जनवरी 1966 तक नगर निगम के उप नगर प्रमुख रहे। बाद में वह एमएलसी बने। 12 नवम्बर 1999 को वह प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। यही नहीं 7 मई 2003 से 1 मई 2004 तक वह मध्यप्रदेश के राज्यपाल भी बने। वह कई बार विधान सभा सदस्य व विधान परिषद सदस्य भी चुने गए। राजनीति में उनका नाम बड़े ही सम्मानजनक तरीके से लिया जाता था। दिनेश शर्मा डिप्टी सीएम बने मौजूदा डिप्टी सीएम डॉक्टर दिनेश शर्मा की पहचान भी नगर निगम से ही हुई। वर्ष 2006 में बीजेपी ने उन्हें महापौर के लिए मैदान में उतारा था। वह दो बार लखनऊ के मेयर रहे। पहली बार 14 नवंबर 2006 से 23 फरवरी 2011 तक तथा दूसरी बार 14 जुलाई 2012 से 2017 तक महापौर चुने गए। 19 मार्च 2017 को वह उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री बनाए गए। लालजी टंडन भी रह चुके हैं पार्षद बिहार के राज्यपाल व पूर्व सांसद लालजी टंडन भी लखनऊ नगर निगम की नर्सरी से निकले हैं। वह यहां पार्षद रह चुके हैं। इसके बाद प्रदेश में कैबिनेट मंत्री बने । वर्ष 2009 में लखनऊ से सांसद चुने गए। 23 अगस्त 2018 को वह बिहार के राज्यपाल बनाए गए। कुसुम राय भी पार्षद रहीं पूर्व कैबिनेट मंत्री व राज्य सभा सदस्य कुसुम राय भी नगर निगम की पार्षद रही हैं। वह 1995 से 2000 तक पार्षद रहीं। अक्तूबर 2003 से फरवरी 2004 तक प्रदेश की लोक निर्माण मंत्री रही। 2008 में राज्य सभा सांसद चुनी गयीं। प्रदेश में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार महेंद्र सिंह भी राजनीति में नगर निगम के सहारे आगे बढ़े। पूर्व मेयर अखिलेश दास भी शिखर तक पहुंचे लखनऊ नगर निगम के पूर्व मेयर अखिलेश दास भी राजनीति में शिखर पर पहुंचे। उनकी पहचान भी नगर निगम से ही हुई। वह 13 मई 1993 से 30 नवम्बर 1995 तक लखनऊ के मेयर रहे। इसके बाद वह राज्यसभा सांसद चुने गए। जनवरी 2006 से मई 2008 तक वह केन्द्र में इस्पात मंत्री रहे। ये भी नगर निगम से निकले, विधायक-एमएलसी बने कैंट क्षेत्र से दो बार विधायक रहे सुरेश तिवारी भी नगर निगम में पार्षद रह चुके हैं। वर्तमान में वह भारतीय जनता पार्टी के अवध क्षेत्र के अध्यक्ष हैं। पूर्व विधायक गोमती यादव भी नगर निगम में पार्षद रह चुके हैं। लखनऊ के पूर्व महापौर दाऊजी गुप्ता भी यहां से निकलने के बाद एमएलसी बने। नगर निगम में मेयर व उपनगर प्रमुख रहे बीआर मोहन भी एमएलसी चुने गए। इनके अलावा बाबू राम कुमार तथा बसंत लाल राजनीति में शिखर तक पहुंचे तथा एमएलसी बने।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया