बीएचयू में छात्र की हत्या

Updated on: 20 October, 2019 12:32 PM
बीएचयू में बिड़ला हॉस्टल के पास मंगलवार शाम एमसीए के निष्कासित छात्र गौरव सिंह की हत्या से आक्रोशित छात्र बुधवार सुबह सड़क पर उतर आए। छात्रों ने विश्वविद्यालय के सिंहद्वार (मुख्य द्वार) को बंदकर धरना दिया। छात्र चीफ प्रॉक्टर प्रो. रोयाना सिंह की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। करीब 10 घंटे बाद कुलपति की ओर से 72 घंटे में कार्रवाई का आश्वासन मिलने पर धरना समाप्त हुआ। रात आठ बजे तक चला धरना दोपहर दो बजे पहुंचे डीएम और एसएसपी ने कुलपति आवास पर छात्रों के साथ बैठक की। हालांकि करीब साढ़े चार घंटे चली बैठक बेनतीजा रही। इसके बाद रात करीब आठ बजे डीएम व एसएसपी ने पुनः छात्रों से संपर्क किया और कुलपति से बात कराई। बकौल डीएम कुलपति ने आश्वस्त किया कि 72 घंटे में जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले विश्वविद्यालय प्रशासन कार्रवाई के लिए सात दिन का समय मांग रहा था लेकिन छात्र इस पर राजी नहीं हुए थे। 72 घंटे में कार्रवाई का भरोसा मिलने पर छात्रों ने धरना समाप्त कर दिया। रात करीब आठ बजे सिंहद्वार खोल दिया गया। इससे पहले शाम को छात्रों ने मुख्यद्वार के कैंडिल जलाकर छात्र गौरव को श्रद्धांजलि दी। हास्टलों की तलाशी, तीन कमरे सील इस बीच बुधवार की शाम डीएम व एसएसपी की मौजूदगी में पुलिस ने बिड़ला ए, सी व रुईया छात्रावासों की तलाशी ली। इस दौरान बिड़ला सी के दो और ए के एक कमरे को सील किया गया। प्रशासन को शिकायत मिली थी कि इन कमरों का इस्तेमाल अवांछनीय हरकतों के लिए किया जा रहा था। आधी रात पोस्टमार्टम, सुबह अंत्येष्टि मृत छात्र गौरव का शव मंगलवार आधी रात पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया। अंतिम संस्कार बुधवार सुबह हरिश्चंद्र घाट पर किया गया। मुखाग्नि पिता राकेश सिंह ने दी। मंगलवार शाम साढ़े छह बजे बिड़ला हॉस्टल के बाहर गौरव की दो बाइक सवार अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। छात्रों ने सुबह करीब 10 बजे कुलपति व चीफ प्रॉक्टर के खिलाफ मुख्य प्रवेश द्वार को बंद कर धरना शुरू कर दिया था। छावनी बना परिसर छात्र की हत्या के बाद भारी तनाव को देखते हुए मंगलवार की रात से परिसर को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। वरिष्ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी अर्धसैनिक बलों के साथ रातभर कैंपस में गश्त करते रहे। बुधवार को छात्रों के उग्र रुख को देखते हुए फोर्स बढ़ा दी गई थी। एहतियात के तौर पर विश्वविद्यालय एक दिन के लिए बंद कर दिया गया था।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया