रोमियो अकबर वॉल्टर रिव्यू: अच्छी कहानी के बावजूद आपके दिमाग में जगह नहीं बनाएगी ये फिल्म !

Updated on: 22 April, 2019 02:35 AM
मूवी: रोमियो अकबर वॉल्टर रेटेड : 2.5/5.0 कास्ट : जॉन अब्राहम , मौनी रॉय , जैकी श्रॉफ, Prakash Raj, सोनू सूद डायरेक्टर : रॉबी ग्रेवाल 2018 में आलिया भट्ट की फिल्म राज़ी ने सभी का दिल जीता था। इस साल जॉन अब्राहम की फिल्म रोमियो अकबर वॉल्टर में भी स्पाई थ्रिलर के फन का वादा किया गया था। लेकिन इसे देखने के बाद लगता है कि ये फिल्म, आलिया की राज़ी का सस्ता वर्जन है। रोमियो अकबर वॉल्टर की कहानी रोमियो अली (जॉन अब्राहम) नाम आदमी के बारे में है, जो बैंक में नौकरी करता है। रोमियो के पिता भारतीय सेना के जवान थे और देश की सेवा करते हुए शहीद हो गये। रोमियो एक काबिल इन्सान है और अपने बचे हुए वक़्त में थिएटर भी करता है। भारत के रीसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) के चीफ श्रीकांत (जैकी श्रॉफ) की नज़र रोमियो पर पड़ती है और वो उसे बतौर स्पाई अपने पास रख लेते हैं। श्रीकांत समझते हैं कि रोमियो रूप बदलने में माहिर है और 1971 में इंडो-पाक युद्ध के समय में अकबर मलिक के रूप में भारत की मदद कर सकता है। इसलिए श्रीकांत अकबर को ट्रेन कर पाकिस्तान भेजते हैं, जहां रोमियो, अकबर मलिक बन जाता है और अपना काम करता है। जब एक स्पाई की ज़िन्दगी दांव पर लगी हो तब उसे क्या करना चाहिए? अपने वतन के नाम पर मर जाना चाहिए या फिर दूसरे से हाथ मिला लेना चाहिए? यही आप इस फिल्म में देखेंगे। ये फिल्म पूरी तरह से जॉन अब्राहम का शो है। जॉन ने अपने किरदार के लिए मेहनत तो की है लेकिन फिर भी थोड़ी बहुत कमी लगी। जैकी श्रॉफ बढ़िया थे। इसके अलावा सिकंदर खेर और मौनी रॉय ने अपने किरदार को ठीकठाक निभाया। डायरेक्टर रॉबी ग्रेवाल की ये फिल्म एक दिलचस्प स्पाई ड्रामा और साइकोलॉजिकल ड्रामा हो सकती थी, जो एक स्पाई की ज़िन्दगी को अच्छे तरीके से दिखा पाती, लेकिन ये ऐसा कर पाने में चूक गयी। फिल्म में इमोशन्स हैं और इसके साथ ही देशभक्ति और जासूसी का मिश्रण दिखाया गया है। फिल्म की कहानी ज़रूर अच्छी होगी लेकिन पर्दे पर देखने में उनसे कुछ ना कुछ कमी ज़रूर थी। फिल्म में कुछ ठीकठाक मोमेंट्स हैं। काफी चालाकी दिखाते हुए फिल्म में ट्विस्ट भी आये। लेकिन ये फिल्म आपको जोड़कर नहीं रख पाती है। फिल्म का म्यूजिक मुझे अच्छा लगा, हालाँकि मौनी रॉय और जॉन के रोमांस का समय काफी खराब था। ट्रेलर को देखकर लगा था कि आलिया भट्ट की फिल्म राज़ी जैसी होगी लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। जो इस फिल्म की कहानी है उसपर अगर ढंग से अमल किया गया होता तो ये फिल्म छप्पर फाड़ सकती थी।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया