चुनाव के दौरान रिकॉर्ड 52000 किलो नशीली दवाएं बरामद

Updated on: 19 November, 2019 04:24 AM
सुरक्षा एजेंसियों ने पिछले चुनाव के मुकाबले 2019 के लोकसभा चुनाव में धन बल, शराब, रिश्वत और नशीली दवाओं के खिलाफ जो अभियान छेड़ा है उसके चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं। आंकड़े ऐसे हैं कि पिछले तमाम चुनावों के रिकॉर्ड टूट गए हैं। चुनावी दौर में 52,000 किलो नशीली दवाएं पकड़ी गई हैं जिसकी कुल कीमत 1,152 करोड़ रुपये मानी जा रही है। वहीं 219 करोड़ रुपये मूल्य की 143 लाख लीटर शराब भी बरामद हुई है। चुनाव आयोग की तरफ से जारी किए गए ताजा आंकड़ों में अब तक कुल 2,633 करोड़ रुपये का माल पकड़ा जा चुका है। ताजा आंकड़े लोकसभा चुनाव के महज दो चरणों तक के ही हैं। अभी देश में पांच चरणों के चुनाव बाकी हैं। बरामदगी के आंकड़ों की रफ्तार को देखते हुए जानकार अंदाजा लगा रहे हैं कि चुनाव खत्म होते-होते यह आंकड़ा बहुत ज्यादा हो सकता है। इस चुनाव में कुल 697.64 करोड़ रुपये कैश बरामद हो चुके हैं। 512 करोड़ से ज्यादा मूल्य का सोना और अन्य बहुमूल्य धातुएं भी सीज की गई हैं। 2014 चुनाव का हाल : पिछले लोकसभा चुनावों में ये आंकड़ा कहीं कम था। चुनाव आयोग की तरफ से जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक 2014 में महज 300 करोड़ रुपये कैश पकड़ा गया था जो इस चुनाव की जब्ती के आधे से भी कम था। वहीं पिछली बार 17,070 किलो नशीली दवाएं बरामद हुई थीं, जो इस बार अब तक हुई बरामदगी के मुकाबले महज एक तिहाई ही थी। इस चुनाव में नकदी का भी रिकॉर्ड टूटा देश की राजधानी दिल्ली में जब्त की गई नकद राशि का बेहद चौंकाने वाला आंकड़ा सामने आया है। आंकड़ों में सबसे ज्यादा 208 करोड़ रुपये कैश तमिलनाडु में पकड़ा गया जहां पिछले चुनाव में 40.5 करोड़ रुपये बरामद हुए थे। आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव भी हुए हैं। वहां पिछली बार के 124 करोड़ रुपये कैश के मुकाबले इस बार 137 करोड़ रुपये बरामद हुए हैं। आंध्र से अलग हुए राज्य तेलंगाना में 68 करोड़ रुपये पकड़े गए। महाराष्ट्र में पिछली बार के 24.65 करोड़ रुपये के मुकाबले इस बार 44.22 करोड़ रुपये पकड़े गए। उत्तर प्रदेश में कैश सीजर में दोगुनी बढ़त हुई है। पिछली बार के 20 करोड़ रुपये कैश के मुकाबले इस बार 38.64 करोड़ रुपये कैश पकड़ा गया। सबसे ज्यादा ड्रग्स की जब्ती गुजरात से चुनावों के दौरान राज्यों में नशीली दवाओं की बरामदगी के भी भयंकर आंकड़े देखने को मिले हैं। जांच एजेंसियों ने साढ़े 11 सौ करोड़ रुपये मूल्य की 52000 किलो नशीली दवाएं बरामद की हैं। इनमें सबसे ज्यादा गुजरात से 524 करोड़ रुपये मूल्य के ड्रग्स की जब्ती हुई है। वहीं इसके बाद दिल्ली से 348 करोड़ रुपये की तो पंजाब से 160 करोड़ रुपये की बरामदगी हुई। उत्तर प्रदेश में 20.76 करोड़ रुपये मूल्य की 19,000 किलो नशीली दवाएं बरामद हुई हैं। जानकारों की राय में पिछले चुनावों के मुकाबले जांच एजेंसियां ज्यादा सतर्क होने के साथ-साथ तकनीकी तौर पर पहले से ज्यादा लैस हैं। यही वजह है कि बड़े पैमाने पर जब्ती के आंकड़े सामने आ रहे हैं। सोना बरामदगी में दक्षिणी राज्य आगे तमिलनाडु में करीब 300 करोड़ रुपये मूल्य के बराबर सोना, चांदी और दूसरी बहुमूल्य धातुएं पकड़ी गई है। वहीं उत्तर प्रदेश में 71 करोड़ रुपये, महाराष्ट्र में 45 करोड़ रुपये और आंध्र प्रदेश में 33 करोड़ रुपये मूल्य की जब्ती हुई है। यूपी में सबसे ज्यादा शराब बरामद उत्तर प्रदेश में 40.99 करोड़ रुपये मूल्य की 14 लाख लीटर से ज्यादा शराब बरामद हुई है। कर्नाटक में 37 करोड़, आंध्र प्रदेश में 26 करोड़ रुपये, महाराष्ट्र में 22 करोड़ रुपये की और पश्चिम बंगाल में 14 करोड़ रुपये मूल्य की शराब जब्त की गई है।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया