श्रीलंका में सीरियल ब्लास्ट में 6 भारतीयों समेत 290 लोगों की मौत, 24 संदिग्ध गिरफ्तार

Updated on: 25 August, 2019 08:45 AM
श्रीलंका में गिरजाघरों और पांच-सितारा होटलों में रविवार को ईस्टर के मौके पर हुए आत्मघाती हमलों समेत आठ बम धमाकों में छह भारतीयों समेत 290 लोगों की मौत हो गई जबकि करीब 500 अन्य लोग घायल हो गए। वहीं श्रीलंकाई पुलिस ने इन सीरियल ब्लास्ट के मामले में 24 लोगों को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। गिरफ्तार किए लोगों से जुड़ी कोई जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई है। इस बीच, पुलिस ने 'एएफपी को बताया कि इन 24 लोगों को कोलंबो और उसके आसपास दो स्थानों से गिरफ्तार किया गया है। मरने वालों में छह भारतीय नागरिक श्रीलंका पुलिस ने सोमवार को बताया कि हमले में मारे गए विदेशियों में कम से कम छह भारतीय नागरिकों के शामिल होने की खबर है। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने धमाके मारे गए दो अन्य लोगों की सोमवार को पहचान भी की। स्वराज ने कोलंबो में भारतीय उच्चायुक्त ने ट्वीट को रीट्वीट किया। उच्चायुक्त ने ट्वीट किया, '' हम बड़े दुख के साथ कल हुए हमले में दो लोगों के. जी हनुमंतरायप्पा और एम रंगयप्पा के निधन की पुष्टि करते हैं। यूएनएओसी के प्रमुख ने श्रीलंका पर हुए हमले की निंदा की संयुक्त राष्ट्र सभ्यता गठबंधन (यूएनएओसी) के प्रमुख मिगुएल मोराटिनोस ने श्रीलंका में रविवार को हुए हमले की निंदा की है। मोराटिनोस के प्रवक्ता निहाल साद ने विज्ञप्ति जारी कर कहा कि उन्होंने इस बर्बतापूर्ण हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्होंने कहा, “यह आतंकी हमले हमें आतंकवाद के खिलाफ सामूहिक रुख अपनाने से नहीं रोक सकते।” उन्होंने धार्मिक स्थलों की सुरक्षा के लिए अपने कार्य योजना को विकसित करने के लिए काम जारी रखने की प्रतिज्ञा की जिससे उपासक शांति और करुणा की भावना से अपने अनुष्ठानों का पालन कर सकें। कहां-कहां हुए धमाके पुलिस प्रवक्ता रूवन गुनासेखरा ने बताया कि पहला धमाका स्थानीय समयानुसार सुबह 8: 45 बजे हुआ। उन्होंने कहा कि ईस्टर प्रार्थना सभा के दौरान कोलंबो के सेंट एंथनी चर्च, पश्चिमी तटीय शहर नेगेम्बो के सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टिकलोवा के एक चर्च को निशाना बनाया गया। वहीं अन्य तीन धमाके कोलंबो स्थित पांच सितारा होटलों - शंगरीला, द सिनामोन ग्रांड और द किंग्सबरी में हुए। छह धमाकों के कुछ घंटों बाद सातवां धमाका कोलंबो चिड़ियाघर के नजदीक एक होटल में हुआ। आठवां धामाका दमेतागोडा इलाके में तब हुआ जब फिदायीन हमलावर ने पुलिस द्वारा रोकने की कोशिश करने पर खुद को उड़ा लिया। इसमें चार पुलिसवालों की मौत हो गई। गुनासेखरा ने बताया कि 66 शवों को नेशनल हॉस्पिटल में रखा गया है जबकि 260 का वहां इलाज चल रहा है। वहीं नेगेम्बो के अस्पताल में 100 शवों को पहुंचाया गया है। 100 लोगों का इलाज चल रहा है। वहीं कोलंबो स्थित अस्पताल के सूत्रों ने कहा कि शवों में कम से कम नौ शव विदेशी नागरिकों के हैं। श्रीलंका के विदेश सचिव रविंथा अरियासिंघे ने कहा कि कम से कम 27 विदेशियों की धमाकों में मौत हुई है। ससंद की आपात बैठक कल धमाकों के मद्देनजर राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने आपात बैठक की। इसके साथ ही चर्चा के लिए 23 अप्रैल को संसद की आपात बैठक बुलाई गई है। सेना बुलाई गई श्रीलंका सरकार ने सुरक्षा के लिए सेना को तैनात किया है। कोलंबो तत्काल 300 सैनिकों को तैनात किया गया है। धार्मिक स्थलों की सुरक्षा के लिए विशेष कार्यबल को तैनात किया गया है। पूरे देश में कर्फ्यू श्रीलंका के आईजीपी पुजीथ जयसुंदरा ने पूरे देश में अगले आदेश तक कर्फ्यू लगाने की घोषणा की है। घरेलू उड़ानों पर भी रोक लगा दी गई है। अगले दो दिनों तक पूरे देश में छुट्टी घोषित की गई है। भारतीय उच्चायोग भी निशाने पर श्रीलंका के आईजीपी पुजीथ जयसुंदरा ने कहा कि 11 अप्रैल को खुफिया जानकारी मिली थी कि कट्टरपंथी संगठन ‘नेशनल थौवीथ जमात’ गिरजाघरों और भारतीय उच्चायोग पर हमले की योजना बना रहा है। इसके मद्देनजर पूरे देश में अलर्ट जारी किया गया था। भारत ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए भारतीय नागरिक किसी भी तरह की सहायता, मदद और स्पष्टीकरण के +94777903082, +94112422788, +94112422789 नंबर पर फोन कर सकते हैं। श्रीलंका के उच्चायुक्त ने ट्वीट कर कहा कि भारतीय नागरिक +94777902082, +94772234176 नंबरों पर फोन कर सकते हैं।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया