लोकसभा चुनाव 2019: जानिए, चौथा चरण क्यों बीजेपी के लिए है कठिन चुनौती, 10 बड़ी बातें

Updated on: 17 July, 2019 12:42 AM

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के चौथे चरण में सोमवार को 72 सीटों के लिए मतदान किया जा रहा है। लेकिन, इस चुनाव में बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) समेत कई क्षेत्रीय दलों की प्रतिष्ठ दांव पर है। लेकिन, चौथे चरण में बीजेपी के लिए खास चुनौती मानी जा रही है। उसकी वजह ये है कि बीजेपी ने पिछली बार 45 सीटें जीती थी जबकि एनडीए ने 72।

आइये जानते हैं चौथे चरण को लेकर दस बातें-

1-लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में जिन 72 सीटों पर मतदान हो रहा है उनमें साल 2014 के लोकसभा चुनाव के नतीजों के लिहाज से इसे देखें तो एनडीए 56 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बीजेपी 45, शिवसेना 9 और एलजेपी 2 सीटें जीती थी।

2-चौथे चरण में राजस्थान की 13 जिन सीटों पर चुनाव हो रहे हैं, ये सभी सीटें बीजेपी के पास हैं। मध्य प्रदेश की 6 सीटों में से 5 बीजेपी ने जीती थी। महाराष्ट्र की 17 लोकसभा सीटों पर वोटिंग हो रही है, इनमें शिवसेना 9 और बीजेपी 8 सीटें जीतने में कामयाब रही थी।

3- झारखंड की जिन 3 सीटों पर वोटिंग हो रही है, ये सभी 3 सीटें बीजेपी के पास हैं। बीजेपी की उम्मीदें इस बार के लोकसभा चुनाव में राजनीतिक हालात काफी बदले हुए हैं।

4- उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन ने जहां चुनौती बढ़ाई है। वहीं, कांग्रेस-एनसीपी महाराष्ट्र में तो बिहार में महागठबंधन ने बीजेपी की मुश्किलें बढ़ा दी हैं।

5-ऐसे में इन राज्यों की भरपाई के लिए बीजेपी की नजर पश्चिम बंगाल और ओडिशा जैसे राज्यों पर लगी हुई है। बंगाल में जिन दो लोकसभा सीटों पर चुनाव हो रहे हैं, वहां बीजेपी को अपने लिए अच्छी संभावनाएं दिख रही हैं।

6-चौथे चरण की 72 लोकसभा सीटों में से कांग्रेस के पास महज 2 सीटें हैं। राहुल गांधी की अगुवाई में उतरी कांग्रेस के लिए अपने खोए हुए जनाधार को वापस हासिल करने की बड़ी चुनौती है।

7-2014 में कांग्रेस ने जिन दो सीटें जीतने में कामयाब रही थी। इनमें छिंदवाड़ा से कमलनाथ और बेहरामपुर से अधीर रंजन चौधरी जीतने में कामयाब रहे थे।

8-72 लोकसभा सीटों पर चुनाव हो रहे हैं वहां कांग्रेस पिछले चुनाव से बेहतर नतीजों की उम्मीदें लगाए हुए है। राहुल गांधी के सामने कांग्रेस को दो सीटों से आगे बढ़ाने की चुनौती है।

9-ऐसे में कांग्रेस को मध्य प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र और झारखंड में सीटें बढ़ोत्तरी की आस लगाए हुए हैं। हाल ही में मध्य प्रदेश और राजस्थान में बनी कांग्रेस सरकार से राहुल गांधी मानकर चल रहे हैं कि पिछले चुनाव से ज्यादा सीटें मिल सकती हैं। यही नहीं यूपी में भी कांग्रेस पिछले चुनाव से बेहतर नतीजे की उम्मीद लगाए हुए है।

10-झारखंड की जिन तीन सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं, ये सभी बीजेपी के पास हैं। इस बार कांग्रेस महागठबंधन के जरिए जीत की आस लगाए हुए है। क्षेत्रीय दलों पर नजर चौथे चरण की 72 सीटों पर वोटिंग चल रही है, इनमें से क्षेत्रीय दलों में टीएमसी 6, बीजेडी 6 और सपा 1 सीटें जीतने में कामयाब रही थी।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया