लोकसभा चुनाव 2019: पंजाब सीएम पर टिकट न देने के आरोप पर बोले सिद्धू,

Updated on: 20 November, 2019 03:22 AM
पंजाब के स्थानीय निकाय मंत्री (Local Body Minister) नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने गुरूवार को अपनी पत्नी नवजोत कौर (Navjot Kaur) के उन आरोपों का खुलकर समर्थन है, जो उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) के खिलाफ टिकट को लेकर लगाए थे। नवजोत कौर ने यह आरोप लगाया था कि कैप्टन अमरिंदर और राज्य पार्टी प्रभारी आशा कुमारी दोनों यह चाहते थे कि उन्हें चंडीगढ़ से लोकसभा सीट न मिले। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जब सिद्धू से उनकी पत्नी के आरोपों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा- “वह कभी भी झूठ नहीं बोलेंगी। मेरी पत्नी काफी मजबूत और नौतिक मर्यादापूर्ण हैं, इसलिए वे कभी झूठ नहीं बोलेंगी।” चंडीगढ़ से कांग्रेस पार्टी का टिकट चाह रहीं नवजोत कौर ने यह आरोप लगाया था कि अमरिंदर ने यह दावा किया कि वह अकेले पार्टी को राज्य की सभी 13 सीट पर जीत दिलाने में सक्षम हैं। उन्होंने अमृतसर में संवाददाताओं से कहा- “अमरिंदर और आशा कुमारी यह सोचते हैं कि मैडम सिद्धू सांसद टिकट के योग्य नहीं हैं। मुझे अमृतसर से टिकट इस आधार पर मना कर दिया गया क्योंकि अमृतसर में दशहर के दौरान हुए ट्रेन हादसे के चलते मैं जीत नहीं सकती थी।” उधर, अमरिंदर सिंह ने इन आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि चंडीगढ़ केन्द्र शासित प्रदेश होने के नाते यह लोकसभा सीट उनके नियंत्रण में नहीं थी। लिहाजा, वहां पर टिकट आवंटन को लेकर उनकी कोई भूमिका नहीं रही। यहां पर कांग्रेस ने चार बार सांसद रह चुके और पूर्व केन्द्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल को मैदान में उतारा है। इस सीट पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री मनीष तिवारी, सिद्धू की पत्नी और बंसल टिकट की रेस में थे। तिवारी को आनंदपुर साहिब सीट शिफ्ट किया गया, जो चंडीगढ़ से सटे पंजाब में आता है। अमरिंदर ने कहा कि सिद्धू की पत्नी को बठंडा या अमृतसर से टिकट का ऑफर किया गया था लेकिन उन्होंने इन सीटों पर लड़ने से इनकार कर दिया। क्योंकि उनके पति को इस सीट पर जोर लगाना पड़ता। लेकिन, वे नहीं चाहती थी कि देशभर में पार्टी के लिए कैंपेन कर रहे सिद्धू को राज्य में उलझाया जाए।
View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया