इंग्लैंड में पढ़े दलित छात्र ने लगाया भेदभाव का आरोप

Updated on: 21 September, 2019 09:49 PM

भारतीय विद्यार्थी सूरज येंगदे अमेरिका में जाति के नाम पर होने वाले भेदभाव के मुद्दा सोशल मीडिया पर उठाकर चर्चा में हैं। सूरज ने मेडिकल छात्रा डॉ. पल्लवी का उदाहरण देते हुए अपनी कहानी लिखी है।

वह महाराष्ट्र के नांदेड़ इलाके के हैं। उन्होंने इंग्लैंड व दक्षिण अफ्रीका से कानून की है और अब हार्वर्ड विश्वविद्यालय में शोधार्थी हैं। उनका कहना है कि विदेश में रहकर पढ़ाई करने वाले भारतीय विद्यार्थी आपस में जाति आधारित व्यवहार करते हैं।

पीड़ित सूरज येंगदे ने सोशल मीडिया पर अपनी व्यथा लिखी है कि उनके जैसे दलित विद्यार्थी जब विदेश में अन्य भारतीय विद्यार्थियों से मिलते हैं तो उन्हें आरक्षण का ताना दिया जाता है। सूरज का कहना है कि इंग्लैंड में पढ़ाई के दौरान उन्हें भेदभाव झेलना पड़ा।

एमफिल कर रहे कुछ विद्यार्थियों को जब सोशल मीडिया से जुड़कर सूरज की जाति पता लगी तो उन्होंने जाति के नाम पर टिप्प्णी करना शुरू कर दिया। सूरज का कहना है कि उन्होंने स्थानीय पुलिस से भी मदद मांगी, लेकिन आरोपी भारतीय विद्यार्थियों के वीजा की समस्या न पैदा हो, इस कारण उन्होंने कार्रवाई नहीं करायी।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया