योजना : 9 महीने में 10 वंदे भारत ट्रेन दौड़ाने की तैयारी

Updated on: 22 November, 2019 04:58 PM

रेल यात्रियों को सुरक्षा-संरक्षा के साथ तेज सफर मुहैया कराने के लिए चालू वित्तीय वर्ष यानी मार्च 2020 तक 10 वंदे भारत एक्सप्रेस (ट्रेन-18) चलाने की योजना है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आम बजट में रोलिंग स्टॉक के लिए दो साल पहले की अपेक्षाकृत निवेश की राशि चार गुना कर दी है। बजट में विशेष रूप से वंदे भारत का जिक्र करते हुए और अधिक ट्रेन चलाने की बात कही है।

वित्त मंत्री ने आम बजट 2019-20 में रोलिंग स्टॉक (कोच,वैगन, इंजन) मद में 6114.53 करोड़ रुपये बजट का प्रावधान किया है। 2017-18 में 1586.91 करोड़ का प्रावधान किया था। लेकिन पिछले साल ट्रेन-18 के बनाने की योजना के साथ रोलिंग स्टॉक का बजट 3724.93 करोड़ कर दिया गया। सीतारमण ने बजट भाषण में हवाई, सड़क और रेल संपर्क बढ़ाने काफी जोर दिया है।

135 सेमी हाई स्पीड ट्रेन
रेलवे अधिकारियों ने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष में कम से कम 10 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चलाने की योजना है। इनकी संख्या बढ़ भी सकती है। सरकार ट्रेन सेट खरीदने के लिए विदेशी कंपनियों की मदद लेने की योजना भी बना रही है। वर्तमान में चेन्नई के रेल फैक्टरी में इसका निर्माण किया जा रहा है। इस प्रकार की 135 सेमी हाई स्पीड ट्रेन का निर्माण होना है।

दिल्ली-लखनऊ भी रूट होगा
वंदे भारत एक्सप्रेस को दिल्ली-अमृतसर, दिल्ली-लखनऊ, दिल्ली-इलाहाबाद, दिल्ली-जयपुर, कोलकाता-रांची, कोलकाता-पटना, कोलकता-भुवनेश्वर, मुंबई-अहमदाबाद, चेन्नई-बेंगलुरु आदि रूटों पर चलाने की योजना है।

दिल्ली-वाराणसी के बीच चल रही ट्रेन
रेलवे बोर्ड के सदस्य रोलिंग स्टॉक राजेश अग्रवाल ने ‘हिदुस्तान’ को बताया कि अगले नौ माह में 10 ट्रेन-18 बनाने की योजना है। दिल्ली-वाराणसी के बीच चल रही वंदे भारत एक्सप्रेस जनता के बीच काफी लोकप्रिय है। यह शताब्दी की तरह सीट वाली है। जबकि 10 ट्रेनों में राजधानी जैसी कुछ बर्थ वाली सीटें होंगी। चेन्नई की रेल कोच फैक्टरी के अलावा मॉडर्न कोच फैक्टरी रायबरेली में भी वंदे भारत बनाने की योजना है ताकि सेमी हाई स्पीड ट्रेनों का तेजी से उत्पादन बढ़ाया जा सके।

कोच उत्पादन का टारगेट
मॉडर्न कोच फैक्टरी में 1893 एलएचबी कोच, आईसीएफ चेन्नई में 2878 कोच व रेल कोच फैक्टरी कपूरथला में 1000 एलएचबी कोच बनाने का लक्ष्य है। इस प्रकार चालू वित्तीय वर्ष में रेलवे कम से कम 240 मेल-एक्सप्रेस, राजधानी व शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन चलाएगा। बता दें कि रेलवे मेल-एक्सप्रेस के पुराने परंपरागत कोच के स्थान पर एलएचबी कोच लगा रहा है।

View More

24x7 HELP

Visitor
अब तक देखा गया